पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • A New Master Plan Will Be Set Up To Settle 1.05 Lakh Families Affected By Fire, Officials Of Administration, BCCL And JRDA Will Prepare Plan In Next Month

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्लानिंग:अग्नि प्रभावित 1.05 लाख परिवाराें काे बसाने के लिए बनेगा नया मास्टर प्लान, प्रशासन, बीसीसीएल व जेआरडीए के अधिकारी दाे महीने में तैयार करेंगे प्लान

धनबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • साल 2009 में 12 साल के लिए बनाया गया था मास्टर प्लान, 2021 में पूरी हो रही इसकी अवधि, इसलिए पड़ी नया प्लान बनाने की जरूरत

झरिया, कतरास सहित अन्य क्षेत्राें के अग्नि व भूधंसान प्रभावित क्षेत्र में रहनेवाले लाेगाें के पुनर्वास के लिए नया मास्टर प्लान बनाया जाएगा। मास्टर प्लान (जेआरडीए) नए सर्वे में एक लाख 4 हजार 946 परिवाराें काे ध्यान में रखा जाएगा। यह निर्णय झरिया पुनर्वास एवं विकास प्राधिकार बाेर्ड की 30वीं बैठक में लिया गया। यह बैठक समाहरणालय सभागार में शनिवार काे जेआरडीए अध्यक्ष सह हजारीबाग प्रमंडल के आयुक्त कमल जाॅन लकड़ा की अध्यक्षता में हुई, जिसमें प्रबंध समिति के सभी सदस्य माैजूद थे।

जेआरडीए अध्यक्ष लकड़ा ने बताया कि झरिया पुनर्वास के लिए पुराना मास्टर प्लान 2009 में 12 वर्ष के लिए बना था। इसमें 54 हजार 154 परिवाराें काे पुनर्वासित करने की याेजना बनाई गई थी। इसकी समय सीमा 2021 में समाप्त हाे रही है। नये सर्वे के आधार पर नया मास्टर प्लान बनाया गया था। बाेर्ड की बैठक में उस पर चर्चा हुई, इसमें कुछ त्रुटियां पाई गई हैं। खासकर निजी स्वामित्व और बीसीसीएल के बीच जमीन विवाद काे लेकर। जिसका निस्तारण जरूरी है। इसके कारण इसे खारिज कर दिया गया है। अब फिर से नया मास्टर प्लान तैयार किया जाएगा। इसके लिए एक उच्च स्तरीय कमेटी बनाई जाएगी, जिसमें जिला प्रशासन, बीसीसीएल और जेआरडीए के अधिकारी रहेंगे। मैप और नक्शा के आधार पर कमेटी 2 महीने में रिपोर्ट तैयार कर प्रबंध समिति काे देगी।

निजी स्वामित्व वाले परिवाराें काे बसाने की प्राथमिकता

जेआरडीए अध्यक्ष का कहना है कि नया सर्वे में 1.05 लाख परिवार काे बसाने की याेजना है। नए मास्टर प्लान में निजी स्वामित्व वाले परिवाराें काे प्राथमिकता के आधार पर बसाने की याेजना है। नए मास्टर प्लान में निजी स्वामित्व वाले परिवाराें के बसाने के लिए आवासीय क्षेत्रफल काे बढ़ाया गया है। बीसीसीएल के 8000 क्वार्टर जेआरडीए को हस्तांतरित किए गए हैं। जिसमें निजी स्वामित्व वाले परिवाराें काे बसाया जाएगा।

झरिया पुनर्वास एवं विकास प्राधिकार में पुनर्वास की धीमी गति सबसे बड़ी बाधा है। पुराना सर्वे में 54 हजार से अधिक परिवाराें काे बसाने की याेजना बनी थी। बेलगड़िया स्थित आवासीय काॅलाेनी में वर्ष 2009-10 से गैर निजी स्वामित्व वाले परिवाराें बसाने के काम चल रहा है। लेकिन, इन 10 वर्ष में अबतक मुश्किल से 3500 हजार परिवाराें काे ही बसाया जा सका है। जेआरडीए प्रबंधन की मानें ताे इसका बड़ा कारण पुनर्वास काे लेकर केंद्र, राज्य ऐर स्थानीय प्रशासनिक स्तर पर स्पष्ट पाॅलिसी निर्धारित नहीं हाेना है। केंद्र व राज्य में विभिन्न पार्टियाें की सरकार बनने के कारण पुनर्वास याेजना प्रभावित हाेती रही है।

जेआरडीए अध्यक्ष का कहना है कि गैर स्वामित्व वाले परिवाराें काे बसाने के लिए फिलहाल नया क्वार्टर बनाने की याेजना नहीं है। उन्होंने कहा कि बेलगड़िया आवासीय काॅलाेनी में बने पुराने क्वार्टर का जीर्णोद्धार कर गैर निजी स्वामित्व वाले परिवारों को पुनर्वासित किया जाएगा। बैठक में डीसी उमा शंकर सिंह, बीसीसीएल सीएमडी गाेपाल प्रसाद सिंह, डीडीसी दशरथ चंद्र दास, एसी श्याम नारायण राम सहित अन्य अधिकारी माैजूद थे।

10 वर्ष में 3500 परिवाराें काे ही बसाया गया

झरिया पुनर्वास एवं विकास प्राधिकार में पुनर्वास की धीमी गति सबसे बड़ी बाधा है। पुराना सर्वे में 54 हजार से अधिक परिवाराें काे बसाने की याेजना बनी थी। बेलगड़िया स्थित आवासीय काॅलाेनी में वर्ष 2009-10 से गैर निजी स्वामित्व वाले परिवाराें बसाने के काम चल रहा है। लेकिन, इन 10 वर्ष में अबतक मुश्किल से 3500 हजार परिवाराें काे ही बसाया जा सका है। जेआरडीए प्रबंधन की मानें ताे इसका बड़ा कारण पुनर्वास काे लेकर केंद्र, राज्य और स्थानीय प्रशासनिक स्तर पर स्पष्ट पाॅलिसी निर्धारित नहीं हाेना है। केंद्र व राज्य में विभिन्न पार्टियाें की सरकार बनने के कारण पुनर्वास याेजना प्रभावित हाेती रही है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर जमीन जायदाद संबंधी कोई काम रुका हुआ है, तो आज उसके बनने की पूरी संभावना है। भविष्य संबंधी कुछ योजनाओं पर भी विचार होगा। कोई रुका हुआ पैसा आ जाने से टेंशन दूर होगी तथा प्रसन्नता बनी रहेगी।...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser