झमाझम बारिश दर्ज:पोस्ट मानसून में औसत से ज्यादा बारिश, समय से 15 दिन पहले ही शुरू हो सकती है कड़ाके की ठंड

धनबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 5 अक्टूबर काे पारा 24 डिग्री पर पहुंचा, पिछले साल 20 अक्टूबर काे पारा इस स्तर पर था

अच्छे मानसून और सामान्य से अधिक बारिश के कारण धनबाद के न्यूनतम तापमान में समय से पहले ही कमी दर्ज की जा रही है। तुलनात्मक ताैर पर देखें, ताे इस वर्ष करीब 15 दिन पहले ही लाेग जाड़े का एहसास कर सकते हैं। 15 दिसंबर के बाद दस्तक देने वाली कड़ाके की ठंड भी कुछ दिनाें पहले ही आ सकती है।

दरअसल, पिछले साल 20 अक्टूबर काे न्यूनतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस पहुंचा था, जबकि इस साल 5 अक्टूबर काे ही पारा इस स्तर तक गिर चुका था। हालांकि जानकार मानते हैं ठंड का यह एहसास तात्कालिक है। यहां ठंड का आना मानसूनी हवाओं के पीछे हटने से जुड़ा है। जब मानसून भारत की सीमा से निकल जाता है, तब उत्तर दिशा से ठंडी हवाएं आती हैं। मानसून का मतलब गर्म हवाओं से है।

मां की विदाई के साथ भी देखने काे मिली झमाझम बारिश
दशहरा में मां की विदाई में बने सुवृष्टी के योग का साफ असर शनिवार काे देखने काे मिला। सुबह 4 बजे कुछ मिनटाें में ही करीब 21 एमएम की झमाझम बारिश दर्ज की गई। मानसून के जानकार एसपी यादव ने बताया कि 18 अक्टूबर काे भी दिन में किसी एक वक्त बारिश के प्रबल आसार हैं। बंगाल की खाड़ी में लाे प्रेशर बना हुआ है, जिसका असर रविवार शाम से यहां दिख सकता है। फिलहाल 21 अक्टूबर तक छिटपुट बारिश की संभावना रहेगी। बंगाल की खाड़ी में साइक्लाेन नहीं बना, इसलिए लाे प्रेशर से कुछ फीडर बादल से यहां बारिश देखी जा रही है।

राज्य में सामान्य से कम, लेकिन धनबाद में अधिक
राज्यभर में 1 जून से 30 सितंबर के बीच सामान्य वर्षापात 1054 से कम 1043 एमएम बारिश दर्ज की गयी है। वहीं, धनबाद में सामान्य वर्षापात 1101 से अधिक 1356 एमएम बारिश इस बार हुई। इस तरह, पूरे मानसून में यहां करीब 255 एमएम अधिक बारिश हुई। यही नहीं, प्री मानसून में मार्च, अप्रैल और मई महीने में भी साइक्लाेन सहित विभिन्न कारणाें से बीच-बीच में बारिश हाेती रही। अब पाेस्ट मानसून में भी अब तक यहां 93 एमएम बारिश हाे चुकी है, जबकि इस अवधि का सामान्य वर्षापात 63 एमएम है।

खबरें और भी हैं...