पांच मंजिला होगी बिल्डिंग:चार साल के इंतजार के बाद फाइनल हुआ बैंकमाेड़ में मल्टीस्टोरी बिल्डिंग का टेंडर

धनबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मल्टीस्टोरी बिल्डिंग - Dainik Bhaskar
मल्टीस्टोरी बिल्डिंग

बैंकमाेड़ निगम कार्यालय में प्रस्तावित मल्टीस्टोरी बिल्डिंग का टेंडर फाइनल हो गया। बिल्डिंग का टेंडर फाइनल होने में चार साल का समय लग गया। चार साल के इंतजार के बाद टेंडर फाइनल होने के बाद अब इस बिल्डिंग के बन जाने की उम्मीद बढ़ गई है। बैंकमोड़ नगर निगम कार्यालय को तोड़ कर वहां नया मल्टीस्टोरी बिल्डिंग बनाने का निर्णय 2017 में लिया गया था। उसी साल निगम बोर्ड की बैठक में इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पास किया गया था और इसका निर्माण 14 वें वित्त आयोग से कराने की घोषणा की गई थी।

सरकार को प्रस्ताव भी भेजा गया था। विभागीय स्तर पर मंजूरी मिलने के बाद टेंडर की प्रक्रिया शुरू की गई। एक बार टेंडर भी निकाला गया, लेकिन किसी ने हिस्सा नहीं लिया। चार साल से इसका टेंडर फाइनल होने का इंतजार किया जा रहा था।

निगम को 1 करोड़ राजस्व की उम्मीद
मल्टीस्टाेरिज बिल्डिंग से निगम को प्रतिवर्ष 1 करोड़ के आसपास राजस्व वसूली की उम्मीद है। दो फ्लोर पर पार्किंग की बंदोबस्ती निगम द्वारा ही किया जाएगा। इसके अलावे दुकानों और ऑफिस का किराया निर्धारण बाजार के अनुसार ही तय किया जाएगा। बिल्डिंग में सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध हाेंगी। बिल्डिंग का निर्माण पुराना कार्यालय भवन को तोड़ कर किया जाएगा। पुराने कार्यालय भवन के साथ-साथ परिसर में स्थित आवासों को भी तोड़ा जाएगा। इस परिसर में निगम कर्मियों का ही आवास है। तीन-चार को छोड़ अधिकांश कर्मचारी सेवानिवृत हो चुके हैं। इनमें से कुछ को निगम द्वारा आवास खाली करने का नोटिस भी दिया जा चुका है।

पांच मंजिला होगी बिल्डिंग, दो फ्लोर पर पार्किंग
मल्टीस्टाेरिज बिल्डिंग पांच मंजिला हाेगा। बैंकमोड़ में सड़क जाम और पार्किंग को ध्यान में रख कर ही इस बिल्डिंग का निर्माण कराने का निर्णय लिया गया है। पांच मंजिला भवन में पहले और दूसरे फ्लोर पर पार्किंग की व्यवस्था हाेगी। थर्ड, फोर्थ फ्लोर पर दुकान और ऑफिस बनेगा। सबसे ऊपरी मंजिल पर निगम का धनबाद अंचल कार्यालय हाेगा। दुकान और ऑफिस किराए पर दिया जाएगा।

बिल्डिंग का टेंडर फाइनल
बैंकमाेड़ निगम कार्यालय में प्रस्तावित मल्टीस्टोरी बिल्डिंग का टेंडर फाइनल हो गया है। विभाग के द्वारा कार्यादेश भी जारी कर दिया गया है। इसका निर्माण अब 25 करोड़ की लागत से ही किया जाएगा। अगले साल जनवरी से काम शुरू हो जाने की उम्मीद है।” सत्येंद्र कुमार, नगर आयुक्त

खबरें और भी हैं...