ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेेशन मेन:99.96 परसेंटाइल के साथ अनिमेश सेकंड स्टेट टाॅपर, तीसरे सत्र में धनबाद के स्टूडेंट्स का शानदार प्रदर्शन

धनबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अनिमेश और हिमांशु - Dainik Bhaskar
अनिमेश और हिमांशु
  • काेराेना काे हराकर जेईई मेन में सफलता की दाे कहानियां

ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेेशन (जेईई) मेन 2021 (सत्र 3) में धनबाद के स्टूडेंट्स नेे शानदार प्रदर्शन किया है। भूली के अनिमेश कुमार 99.96 परसेंटाइल के साथ जिले के टाॅपर और राज्य के सेकंड टाॅपर बने। वहीं, दिल्ली पब्लिक स्कूल के शाैर्य दिव्यम 99.85 परसेंटाइल के साथ जिले में दूसरे और सहज शांडिल्य 99.64 परसेंटाइल के साथ तीसरे स्थान पर रहे।

चाैथा स्थान 99.48 परसेंटाइल पर दून पब्लिक स्कूल के हर्ष कुमार और पांचवां 99.46 परसेंटाइल के साथ दिल्ली पब्लिक स्कूल के हिमांशु राज काे मिला। जेईई मेन 2021 के पहले और दूसरे सत्र में भी धनबाद के विद्यार्थियाें ने बेहतरीन कामयाबी हासिल की थी। तीसरे सत्र की परीक्षा जुलाई महीने में हुई थी। तीनाें सत्राें की ऑनलाइन परीक्षा काेराेना के साए में हुई।

स्वाद-गंध चली गई थी, चाचाजी से मिले हाैसले ने दिलाई कामयाबी : अनिमेश

जुलाई में जेईई मेन थे। जून में अचानक स्वाद और गंध चली गई। कमजाेरी भी महसूस हाे रही थी। यह काेराेना था। आत्मविश्वास टूट गया और पढ़ाई छाेड़ दी। लेकिन, फिर चाचाजी ने हाैसला बढ़ाया। हालात से मुकाबला करते हुए फिर पढ़ाई शुरू की और आखिरकार उसका नतीजा शानदार रहा। यह कहना है जेईई मेन (सत्र 3) में 99.96 परसेंटाइल के साथ राज्य में दूसरा स्थान हासिल करनेवाले अनिमेश कुमार का। भूली में रहनेवाले अनिमेश ने बताया कि 17-18 दिन के लिए खुद काे क्वारेंटाइन कर लिया। मां ने खाने में लहसून बढ़ा दिया। धीरे-धीरे तबीयत में सुधार हाेता गया और फिर पूरी तरह ठीक हाे गया। अनिमेश के पिता सरजू प्रसाद कनीय अभियंता, चाचा व्यवसायी व मां भारती देवी गृहिणी हैं।

हिमांशु भी हुए संक्रमित, पर हार नहीं मानी, धनबाद टाॅप-10 में हुए शामिल
99.46 परसेंटाइल के साथ जिले के टाॅप-10 में जगह बनाने वाले हिमांशु राज भी अप्रैल में काेराेना से संक्रमित हाे गए थे। टेस्ट कराने पर काेविड पाॅजिटिव निकले। दाे-तीन सप्ताह हाेम काेरेंटाइल में रहे और दवाएं लेते रहे। इस दाैरान पढ़ाई भी जारी रखी। धीरे-धीरे काेराेना के लक्षण जाने लगेऔर फिर रिपाेर्ट भी नेगेटिव आगई। हिमांशु ने बताया कि हर दिन सिलेबस का अधिक-से-अधिक हिस्सा कवर करने की काेशिश करता था। शिक्षक अाॅनलाइन रिवीजन करा देते थे और डाउट्स भी क्लियर करते। पिता उमा शंकर सिंह शिक्षकऔर मां राधिका सिंह गृहिणी हैं। वे लगातार प्रेरित करते रहे। हिमांशु काे जेईई मेन 2021 के पहले सत्र में 99.43 और दूसरे सत्र में 99.39 परसेंटाइल मिले थे।

खबरें और भी हैं...