पैच लेने के बाद नहीं जमा की बैंक गारंटी:टेंडर में भाग लेने पर रोक, बीसीसीएल ने आउटसोर्सिंग कंपनी लिब्रा को दो साल के लिए काली सूची में डाला

धनबाद7 दिन पहलेलेखक: संजय मिश्रा
  • कॉपी लिंक

बीसीसीएल ने आउटसोर्सिंग कंपनी लिब्रा बिजनेस काे दाे साल के लिए ब्लैकलिस्टेड कर दिया है। कंपनी अब जनवरी 2024 तक बीसीसीएल के किसी भी तरह के टेंडर में भाग नहीं ले सकेगी। सीएमडी समीरन दत्ता की स्वीकृति के बाद गाेविंदपुर एरिया के जीएम धर्मेंद्र मित्तल ने गुरुवार काे आदेश जारी कर दिया गया। गाेविंदपुर एरिया की न्यू आकाशकिनारी काेलियरी के विस्तार के लिए पैच-जी नाम से एक नया पैच शुरू किया जाना था।

2021 में 105 कराेड़ रुपए का टेंडर निकाला गया था। 24 लाख टन काेयला और 42 लाख क्यूबिक मीटर ओबीआर निकालना था। कार्य तीन साल के आवंटित किया गया था। लिब्रा काे 11 सितंबर 2021 काे कार्य आवंटित करते हुए एलए (लेटर ऑफ असेपटेंस) जारी किया गया। कंपनी के एनआईटी के नियमाें के तहत लिब्रा काे एलए जारी हाेने के 21 दिन अर्थात 2 अक्टूबर 2021 तक रिवार्ड का तीन प्रतिशत 1.56 करोड़ रुपए बैंक गारंटी के ताैर पर जमा करने थे, लेकिन जमा नहीं की। इसी कारण बीसीसीएल ने लिब्रा के खिलाफ कार्रवाई की।

खबरें और भी हैं...