पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नगर निगम के चुनावी किस्से:1 वाेट से जीतकर, स्वतंत्रता सेनानी राम खेलावन सिंह 1962 में बने थे नगरपालिका के चेयरमैन

धनबाद21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
स्वतंत्रता सेनानी राम खेलावन सिंह - Dainik Bhaskar
स्वतंत्रता सेनानी राम खेलावन सिंह
  • कई काेलियरियाें के मालिक राय साहब बीएल गुटगुटिया काे दी थी मात, 11 साल तक पद पर रहे

100 साल की धनबाद नगरपालिका के इतिहास में चेयरमैन के चुनाव में उलट-फेर के कई राेचक किस्से रहे। शहर की सरकार बनाने के लिए एक-एक वाेट बेशकीमती हाेता था। एक वाेट इधर से उधर हाेने पर समीकरण बदल जाया करते थे। साल 1962 के नगरपालिक चेयरमैन के चुनाव में ऐसा ही वाकया हुआ था।

कई काेलियरियाें के मालिक राय साहब बिहारी लाल गुटगुटिया का मुकाबला स्वतंत्रता सेनानी और स्टार काेल कंपनी के मालिक रामखेलावन सिंह के साथ था। कांटे की टक्कर में रामखेलावन सिंह महज एक वाेट से विजयी हुए थे। राम खेलावन सिंह की कांग्रेस में अच्छी पकड़ थी। उनके छाेटे भाई रामधनी सिंह साल 1967 में कांग्रेस से एमएलसी भी बने थे। कांग्रेस ने राम खेलावन सिंह के लिए लामबंदी की थी। वे 1973 तक लागातार 11 साल धनबाद नगरपालिका के चेयरमैन रहे। उनके बाद एससी मल्लिक ने शहर की सरकार की सत्ता संभाली।

18 साल तक स्थानीय निकाय के वाइस चेयरमैन भी रहे

रामखेलावन सिंह बिहार के मुंगेर के फुलैया गांव के थे। उनकी भतीजी प्राेफेसर किरण सिंह बताती हैं कि साल 1900 के आसपास दादा जी रैवत सिंह धनबाद आए थे और यहीं बस गए। दोनों भाई स्वतंत्रता अांदाेलन में कई बार जेल भी गए। 1942 के भारत छाेड़ाे आंदाेलन में चाचाजी काे गिरफ्तार कर काेलकाता जेल भेज दिया गया था। आजादी के पहले वे 18 वर्षों तक स्थानीय निकाय के वाइस-चेयरमैन भी रहे थे। अाजादी के बाद परिवार के सदस्य जिला कांग्रेस में कई बड़े पदाें पर रहे। वे निरसा के नया डांगा के पास स्थित एक काेलियरी के मालिक भी थे। उन्हाेंने साल 1916 में स्टार काेल कंपनी बनाई थी। बिहार, यूपी के अलावा ढाका तक कोयले की सप्लाई थी।

खबरें और भी हैं...