पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्थिति का आकलन:एयर क्लीन प्राेग्राम के लिए धनबाद का चयन हवा का सर्वेक्षण करने पहुंचेगी केंद्र की टीम

धनबाद18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सड़कों के डिवाइडर पर पौधरोपण करते निगमकर्मी। - Dainik Bhaskar
सड़कों के डिवाइडर पर पौधरोपण करते निगमकर्मी।
  • सर्वे टीम की रिपोर्ट के आधार पर निर्धारित होगी शहर की रैंकिंग
  • 6 करोड़ रुपए की लागत से 2 लाख पौधे लगाने की योजना पर नगर निगम ने शुरू किया काम

स्वच्छता सर्वेक्षण की तर्ज पर नेशनल एयर क्लीन प्राेग्राम का भी सर्वे किया जाएगा। प्राेग्राम के तहत केेंद्र सरकार की कितनी गाइडलाइन का पालन किया गया, शहर में वायु प्रदूषण काे राेकने के लिए क्या-क्या कदम उठाए गए हैं, कितनी याेजनाओं काे धरातल पर उतारा गया है, इसका आकलन करने के लिए केंद्र से सर्वे टीम भेजी जाएगी।

स्वच्छता सर्वेक्षण की तरह ही यह टीम भी एक सप्ताह तक शहर में रहकर स्थिति का आकलन करेगी और उसी केआधार पर रिपाेर्ट देगी। सर्वे टीम की रिपाेर्ट के आधार पर ही शहर की रैकिंग निर्धारित की जाएगीऔर उसी रेकिंग के आधार पर शहर काे ग्रांट मिलेगा। एयर क्लीन प्राेग्राम का सर्वे किए जाने की पुष्टि नगर आयुक्त सत्येंद्र कुमार ने भी की है।

प्रथम चरण में डिवाइडरों पर लगाए जा रहे पौधे
एयर क्लीन प्राेग्राम के तहत निगम का पाैधाराेपण पर खास फाेकस है। निगम की ओर से दाे लाख पाैधे लगाने के लिए तीन अलग-अलग टेंडर निकाले गए हैं। तीन में से दाे टेंडर फाइनल भी हाे चुके हैं। निगम ने पौधाराेपण अभियान पर 6 कराेड़ रुपए खर्च करने की याेजना तैयार की है। 1 कराेड़ 90 लाख रुपए की लागत से एक टेंडर निकाला गया है। पहले चरण में शहर की प्रमुख सड़काें पर बने डिवाइडराें पर पौधे लगाए जाएंगे। आईएसएम गेट से स्टील गेट तक पाैधा लगाने का काम शुरू हाे गया है।

झारखंड से जमशेदपुर व रांची का भी हुआ चयन
नेशनल एयर क्लीन प्राेग्राम के तहत देशभर के 111 शहर शामिल हैं। इनमें झारखंड के तीन शहर धनबाद, रांची और जमशेदपुर भी शामिल हैं। स्वच्छता सर्वेक्षण की तरह इन तीनाें शहराें में भी एयर क्लीन प्राेग्राम का सर्वे किया जाएगा। धनबाद में इस प्राेग्राम काे सफल बनाने काे लेकर निगम अधिक ग्रीन पैच का निर्माण, वृहद पैमाने पर पाैधाराेपण अभियान चलाने का प्रस्ताव बनाया है।

कहीं चूल्हे का इस्तेमाल मिला तो निगेटिव मार्किंग

टीम का मुख्य फाेकस, पार्क, नदी, तालाब के आसपास स्थित दुकानाेंं पर हाेगा। दुकानाें में काेयला का इस्तेमाल किया जा रहा है या गैस का। अगर चूल्हा पाया गया ताे निगेटिव मार्किंग की जाएगी। अब निगम ने चूल्हे के खिलाफ अभियान शुरू किया है।

स्वच्छता सर्वेक्षण की तरह ही एयर क्लीन प्राेग्राम का भी सर्वे किया जाएगा। इसी के आधार पर रैकिंग व ग्रांट निर्धारित होंगे।
-सत्येंद्र कुमार, नगर आयुक्त

खबरें और भी हैं...