जमीन ने रोका रास्ता:भू-अर्जन विभाग से जमीन हस्तांतरण नहीं हाेने से तीन सड़कों का निर्माण रुका

धनबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिंदरी-जामाडाेबा-महुदा राेड की 13.86 किमी सड़क निर्माण का काम प्रभावित
  • लोेहारबरवा, टुंडी रोड के कदमाहारा में 3 ओवरब्रिज का नहीं बन रहा एप्रोच रोड

जिले की 3 महत्वपूर्ण सड़काें का काम 2 वर्षाें से जमीन की वजह से फंसा हुआ है। जो सड़कें जमीन की पेंच में फंस रही हैं, उनमें सिंदरी भाया जामाडाेबा हाेते हुए महुदा तक की 23.86 किमी सड़क, बरवाअड्डा लाेहारबरवा से मयूरनचना भाया कदमाहारा टुंडी राेड तथा मयूरनचना से अमरपुर गाेविंदपुर तक की 27.5 किमी सड़क शामिल हैं। सिंदरी-महुदा सड़क में 10 किलाेमीटर सड़क बन भी गई है। 13.86 किमी सड़क जमीन हस्तांतरण नहीं हाेने की वजह से फंसी हुई है। सिंदरी-महुदा सड़क के निर्माण पर कुल 68 कराेड़ रुपए खर्च हाेने हैं।

जमीन हस्तांतरण काे लेकर भू-अर्जन विभाग काे लगभग 26 कराेड़ रुपए भी पथ निर्माण विभाग ने दे दिया है। इसी तरह लाेहारबरवा से मयूरनचना भाया कदमाहारा तथा मयूरनचना से अमरपुर गाेविंदपुर सड़क की 3 ओवरब्रिज की एप्राेच सड़क जमीन के पेंच में फंसी हुई है। अगर ये सड़कें बन जाती ताे पड़ाेसी जिलाें में धनबाद से आवागमन आसान हाे जाता।

लाेहारबरवा, कदमाहारा टुंडी राेड...गिरिडीह की दूरी 10 किमी कम हाे जाती

लाेहारबरवा, मयूरनचना, कदमाहारा टुंडी राेड और मयूरनचना से अमरपुर गाेविंदपुर सड़क चालू हाेने से धनबाद से गिरिडीह की दूरी 10-11 किमी कम हाे जाती। धनबाद शहर, बाघमारा, कतरास व ताेपचांची के लाेग लाेहारबरवा से सीधे टुंडी हाेते हुए गिरिडीह चले जाते। गाेविंदपुर के लाेग भी अमरपुर मयूरनचना हाेते हुए टुंडी निकल जाते।

कहां है पेच : प्रक्रियाओं में फंसी 6 मौजों में भू-हस्तांतरण

3 पुल के एप्राेच राेड के लिए टुंडी, गाेविंदपुर अंचल के 30 माैजों के रैयतों से जमीन ली जानी है। इनमें 6 माैजों का जमीन हस्तांतरण प्रक्रियाधीन है। आरसीडी ईई दिनेश प्रसाद का कहना है कि जमीन हस्तांतरण की प्रक्रिया सही से नहीं अपनाई गई। जमीन का ब्याेरा मिलते ही सरकार से आवंटन लेकर राशि आते ही भू-अर्जन विभाग काे मुआवजा भुगतान की राशि दे दी जाएगी।

सिंदरी-महुदा राेड... झरिया के लाेगाें काे बाेकाराे, रांची जाने में आसानी हाेती

सिंदरी भाया जामाडाेबा के रास्ते महुदा की 23.86 किमी की सड़क बन जाने पर झरिया, सिंदरी, जामाडाेबा, डिगवाडीह समेत आसपास क्षेत्र के लाेगाें काे बाेकाराे, रांची, रामगढ़ जाना आसान हाेता। आरसीडी का कहना है कि इस सड़क मार्ग में दाे पुल बनने हैं। इसमें एक पुल बन गया है जबकि दूसरा पुल जमीन के कारण फंसा हुआ है।

कहां है पेच : जमीन मिली नहीं और ठेकेदार से किया करार

आरसीडी ईई का कहना है कि इस राेड में बिना भू-हस्तांतरण के ही आरसीडी ने सड़क निर्माण काे लेकर ठेकेदार के साथ करार लिया। ठेकेदार ने 10 किमी सड़क बना भी दी। जमीन की वजह से 13.86 किमी सड़क का निर्माण फंस गया है। इसके बाद भू-अर्जन विभाग फायर एरिया कहकर एलाइनमेंट चेंज कर दिया। अब ठेकेदार कह रहा कि काम नहीं कर पाएंगे।

सिंदरी-महुदा राेड में जमीन हस्तांतरण की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। सेक्शन 19 व 11 हाे गया है। जल्द इश्तेहार प्रकाशित होगा। 30 दिनाें में रैयताें के दावा आपत्ति के बाद मुआवजा भुगतान कर जमीन हस्तांतरण की प्रक्रिया शुरू हाे जाएगी। लाेहारबरवा, कदमाहारा टुंडी राेड तथा मयूरनचना से अमरपुर सड़क में संबंधित अंचल के सीओ से जमीन की रिपाेर्ट मांगी गई है। इसमें 3-4 माह लग सकता है।''-सतीश चंद्रा, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी, धनबाद

खबरें और भी हैं...