पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कच्चा माल व उपकरण जब्त:टुंडी के गांव में नकली अंग्रेजी शराब फैक्ट्री का खुलासा, संचालक फरार

टुंडी18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैगनिरया पंचायत के नारंगडीह में जब्त सामान को घर से बाहर निकालती टुंडी पुलिस। - Dainik Bhaskar
बैगनिरया पंचायत के नारंगडीह में जब्त सामान को घर से बाहर निकालती टुंडी पुलिस।
  • पुलिस ने 35 पेटी तैयार माल के साथ शराब बनाने का कच्चा माल व उपकरण जब्त किया
  • अवैध शराब कारोबार से जुड़े सरगना एवं अन्य लोगों की तलाश की जा रही

टुंडी थाना ने बैगनिरया पंचायत के नारंगडीह में एक अवैध शराब फैक्ट्री का उद्भेदन किया है। हालांकि इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। टुंडी पुलिस ने रविवार की रात गुप्त सूचना के आधार पर नारंगडीह गांव के गोड़ा बेसरा नामक एक व्यक्ति के घर पर छापेमारी की। यह एक उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र है। जिस घर की तालाशी लेनी थी, उसमें ताला बंद था। इसके बाद पुलिस ने पूरे घर को चारो तरफ से घेर लिया। ताला तोड़कर पुलिस भीतर घुसी, तो पूरा माजरा खुलकर सामने आया।

इस छापेमारी का नेतृत्व टुंडी थाना प्रभारी संतोष कुमार सिंह कर रहे थे, उनके साथ अवर निरीक्षक विकास कुमार यादव, रवि पटेल सहित भारी संख्या में पुलिस बलों ने नारंगडीह स्थित उक्त घर को घेरा था। पुलिस बल अंदर गई तो अंदर पूरी फैक्ट्री थी। सारे सामान को एकत्र करने पर 35 पेटी तैयार रॉयल स्टैग एवं इंपीरियल ब्लू की नकली शराब मिली। इसके अतिरिक्त दो गैलन में भरा कच्चा स्प्रिट, 25 खाली गैलन, दो बड़ा गैलन। एक स्टील का बड़ा गैलन जिसमें नल लगा हुआ है के अतिरिक्त 20 कार्टन खाली बोतल, भारी मात्रा में रैपर ढक्कन एवं सील पैक करने के स्टीकर बरामद हुए। पुलिस बल के आने की भनक लग जाने के कारण सरगना सहित अवैध कारोबार से जुड़े लोग एवं मजदूर सभी घर में ताला लगा कर भाग निकले।

इस संबंध में थाना प्रभारी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि अवैध नकली अंग्रेजी शराब के इस कारोबार से जुड़े सरगना एवं अन्य लोगों की छानबीन की जा रही है। सभी लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वरीय पदाधिकारियों को भी सूचना दे दी गई है। ज्ञात रहे इन दिनों शराब के अवैध कारोबारियों द्वारा सुदूर ग्रामीण क्षेत्र का फायदा उठाकर वहां अपना कारोबार चालू करते हैं। रातो-रात माल बनाकर उन्हें बिहार एवं अन्य होटलों में खपाने के लिए ले जाया जाता है। इन इलाकों में पुलिस जब तक पहुंचती है तब तक कारोबारी वहां से भाग निकलते हैं।

खबरें और भी हैं...