• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • Faye Came From Ghaziabad, There Is Only 24 Hours Of Oxygen Left, From Bokaro, The Childhood Teacher Drove The Cylinder By Driving 13 Sa Km Non stop.

दोस्ती हो तो ऐसी:गाजियाबाद से फाेन आया, 24 घंटे की ही ऑक्सीजन बची है, बोकारो से बचपन के दाेस्त ने 13 साै किमी नॉन-स्टॉप ड्राइविंग कर पहुंचाया सिलेंडर

धनबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना पॉजिटिव राजन काे नाेएडा-दिल्ली में बेड नहीं मिला ताे दाेस्त के घर हाेम आइसाेलेशन में थे

शनिवार रात 1 बजे। रांची में अपने फ्लैट में सो रहे देवेंद्र कुमार शर्मा के मोबाइल पर रिंग हुआ। कॉलर गाजियाबाद में रहने वाला उसका दोस्त संजय सक्सेना थे। संजय ने कहा-देवेंद्र, अपना दोस्त राजन सिंह पॉजिटिव है। गाजियाबाद में ही होम आइसोलेशन में है। उनके पास सिर्फ 24 घंटे की ऑक्सीजन बची है। कहीं मिल नहीं रही है। ऑक्सीजन नहीं मिली तो राजन का बचना मुश्किल है। फिर क्या था... देवेंद्र ने फौरन अपनी बाइक निकाली और चल पड़े बोकारो की ओर। बोकारो में ही उसका और राजन का बचपन बीता था। साथ पढ़ाई की। दाेनाें के परिजन अभी भी बोकारो में ही रहते हैं।

देवेंद्र रविवार सुबह 5 बजे बोकारो पहुंचे। कुछ परिचितों से ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था का आग्रह किया। आखिरकार एक दाेस्त झारखंड ऑक्सीजन प्लांट के संचालक राकेश कुमार गुप्ता ने नि:शुल्क सिलेंडर उपलब्ध कराया। इसके बाद राजन अपने छाेटे भाई प्रशांत काे साथ लेकर रविवार दाेपहर कार से गाजियाबाद रवाना हुए। चूंकि राजन के पास कुछ घंटे का ही ऑक्सीजन बची थी। ऐसे में देवेंद्र बिना कहीं रुके 1300 किमी तक अनवरत सफर कर सोमवार सुबह गाजियाबाद पहुंच गए। उस समय राजन के पास मौजूद ऑक्सीजन अंतिम सांसें गिन रही थी। आनन-फानन में देवेंद्र ने ऑक्सीजन सिलेंडर जोड़ा और अब राजन रिकवर कर रहा है। जिस संजय सक्सेना ने देवेंद्र को राजन की स्थिति की जानकारी दी थी, वे दोनों के दाेस्त हैं।

कॉमन फ्रेंड की कोरोना से मौत के बाद से डरे हुए थे दोनों

देवेंद्र और राजन के एक दाेस्त संजीव सुमन की 19 अप्रैल को नोएडा में काेराेना से ही मौत हो गई थी। राजन भी संजीव सुमन की सोसाइटी के फ्लैट में रहते थे। संजीव की माैत से राजन बहुत घबरा गए थे। राजन ने नोएडा और दिल्ली में बेड के लिए बहुत कोशिश की, लेकिन नहीं मिला। इसके बाद राजन के परिचित संजय सक्सेना उन्हें अपने घर ले गए।

खबरें और भी हैं...