न्यायिक हिरासत में भेजा गया जेल:जेल से छूटने के बाद ठगी के पैसे से खरीदे गैजेट, पेमेंट करते ही पकड़ाया

धनबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तीन माह पहले जेल से छूटा, लेकिन फिर अपराध करने की फिराक में जुट गया। लेकिन, साइबर पुलिस के हत्थे चढ़ गया। उसे गिरफ्तार कर काेर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में फिर से जेल भेज दिया गया। मामला झिलुआ, नारायणपुर के रहनेवाले राजकुमार मंडल का है। वह मूल रूप से जसीडीह का है। वह किसी मामले में पश्चिम बंगाल में पकड़ा गया था और उसे वहां जेल भेज दिया गया था। तीन माह पहले छूटा था और साइबर ठगी की काेशिशाें में जुटा था।

वह शुक्रवार काे धनबाद पहुंचा था। धैया स्थित एक माॅल से लैपटाप, आईफाेन, बैग और कुछ अन्य इलेक्ट्राॅनिक गैजेट की खरीदारी की। पुलिस सूत्राें के मुताबिक, राजकुमार ने खरीदारी के बाद उसी बैंक खाते से भुगतान किया, जिसमें वह साइबर ठगी की राशि जमा कराता था। उस खाते पर पुलिस की नजर थी। भुगतान होते ही साइबर पुलिस की टीम राजकुमार के माेबाइल लाेकेशन काे ट्रेस कर मेमकाे माेड़ स्थित माॅल में पहुंची और उसे गिरफ्तार कर लिया।

इधर, हरियाणा पुलिस ने झरिया, जामताड़ा से दाे साइबर अपराधियाें काे धर दबोचा

हरियाणा पुलिस ने शनिवार काे झरिया पुलिस की मदद से बनियाहीर से राेहित नामक युवक काे हिरासत में ले लिया। उसके निशानदेही पर जामताड़ा से भी एक युवक काे पकड़ा गया। दाेनाें पर हरियाणा के राेहतक थाने में साइबर क्राइम का केस दर्ज है। हरियाणा पुलिस दाेनाें काे काेर्ट से ट्रांजिट रिमांड पर अपने साथ ले जाएगी। जानकारी के मुताबिक, राेहित पुरानी गाड़ियाें की खरीद-बिक्री का काम करता है। इस सिलसिले में उसका हरियाणा जाना-अाना लगा रहता है। इस दाैरान अधिक कमाई के चक्कर में साइबर अपराधियाें के संपर्क में अा गया। साइबर अपराधियाें ने राेहतक में पेट्राे कार्ड से एक व्यक्ति के खाते से एक लाख से अधिक रुपए उड़ा लिए थे। वह राशि राेहित के बैंक खाते में ट्रांसफर किए गए अाैर फिर उसकी निकासी कर ली गई थी।

खबरें और भी हैं...