• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • If The Dead Body Was Not Taken By Ambulance For Three Hours, The Driver Recovered Four Thousand, 2 Youths Lifted The Body With 3 Thousand.

स्वास्थ्य व्यवस्था और मानवता को आईना:शव तीन घंटे एंबुलेंस से नहीं उतारा तो चालक ने चार हजार वसूले, 2 युवकों ने 3 हजार लेकर बॉडी उठाई

राजगंज6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एसएनएमएमसीएच में बेड के इंतजार में ऑटो में ही निकली जान

राजगंज के गल्हीकुल्ही में बुधवार की रात मानवता को शर्मसार करने वाली घटना हुई। रात के साढ़े नौ बजे सरिता देवी नामक महिला चिल्ला-चिल्लाकर कह रही थी कि उनके पति का शव एंबुलेंस में पड़ा है। उन्हें कोरोना नहीं है। प्लीज, उनके शव को उतारकर घर के अंदर रख दीजिए, लेकिन किसी ने सरिता की बात नहीं सुनी। ससुरालवालों ने भी मदद नहीं की।

तीन घंटे बाद सरिता के मायके वाले राजगंज पहुंचे और शव को हजारीबाग ले गए। इस बीच मानवता को झकझोरने वाला घटनाक्रम भी हुआ। जिस एंबुलेंस से शव को धनबाद से राजगंज लाया गया, उसके चालक ने उसके लिए ढाई हजार रुपए लिए, शव को उतारने में हुई देरी के लिए चार हजार रुपए का चार्ज वसूला। गांव के ही जिन दो युवकों ने पहली से दूसरी एंबुलेंस में शव को लादा, उन्होंने सरिता से 3 हजार रुपए लिए।

एसएनएमएमसीएच में बेड के इंतजार में ऑटो में ही निकली जान

मृतक मनोज की किराने की दुकान थी। उसकी तबीयत खराब थी। ऑक्सीजन लेवल 87 पहुंच गया था। मनोज को सांस लेने में तकलीफ होने लगी तो पत्नी ने उसे ऑटो रिजर्व कर एसएनएमएमसीएच ले गई। वहां डेढ़ घंटे तक मनोज ऑटो में बैठा रहा और पत्नी अस्पताल में डॉक्टर से इलाज के लिए गुहार लगाती रही, परंतु बेड नहीं मिला। मनोज ने ऑटो में ही दम तोड़ दिया।

खबरें और भी हैं...