दल ने शुरू की जांच:सीएचसी में नवजात की मौत मामले में प्रभारी, एएनएम, सहायक से पूछताछ

धनबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोविंदपुर सीएचसी में एएनएम एवं अन्य चिकित्सा कर्मियों द्वारा प्रसव पीडि़ता मीना देवी को प्रसव गृह से बाहर निकाल देने व अस्पताल परिसर में खुले में प्रसव होने तथा नवजात की मौत के मामले को जिला प्रशासन ने काफी गंभीरता से लिया है और इसके लिए 3 सदस्यीय जांच दल का गठन किया गया है। जांच दल मंगलवार को सीएचसी पहुंचा और मामले की तहकीकात की। मीना देवी टुंडी प्रखंड अंतर्गत रूपन पंचायत के टेसराटांड़ निवासी अमल कर्मकार की पत्नी है।

सिविल सर्जन द्वारा गठित टीम ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ राहुल कुमार, एएनएम गीता कुमारी एवं सहायक फूल कुमारी से मामले की जानकारी ली। उनसे पूछताछ की गई। टीम में जिला आरसीएच पदाधिकारी डॉ विकास रॉय, स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ रेखा नायक एवं सहायक संजू सहाय शामिल थी। टीम ने सीएचसी केंद्र स्थित प्रसव गृह जाकर लोगों से घटना की जानकारी ली। चिकित्सा प्रभारी राहुल कुमार, एएनएम गीता सिन्हा एवं सहायक फूलकुमारी ने घटना के संबंध में अपना बयान दिया।

टीम ओपीडी रजिस्टर, प्रसव गृह रजिस्टर एवं कार्यालय रजिस्टर की छायाप्रति अपने साथ ले गयी। कई कर्मियों से लिखित बयान लिया गया। मौके पर प्रदीप सेन, धर्मेंद्र कुमार, संतोष कुमार आदि मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि प्रसव पीड़ित मीना देवी को एएनएम एवं अन्य कर्मियों ने हीमोग्लोबिन जांच एवं कागजी खानापूरी के नाम पर प्रसव गृह से बाहर निकाल दिया था। उन्होंने परिसर में शिशु को जन्म दिया था, जिसकी मौत हो गई थी।

खबरें और भी हैं...