• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • Makar Sankranti Money Will Be Celebrated Even Today, According To Hrishikesh Panchang, Sun God Came In Capricorn At 8:34 Pm, Kharmas Ended

आस्था की डुबकी:मकर संक्रांति मनी आज भी मनाई जाएगी, ऋृषिकेश पंचांग के अनुसार, रात 8:34 बजे मकर राशि में आए सूर्यदेव, समाप्त हुआ खरमास

धनबाद8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मकर संक्रांति पर तेलमच्चाे में बड़ी संख्या में लाेगाें ने दामाेदर में डुबकी लगाई। फोटो : सुभोजीत घोषाल - Dainik Bhaskar
मकर संक्रांति पर तेलमच्चाे में बड़ी संख्या में लाेगाें ने दामाेदर में डुबकी लगाई। फोटो : सुभोजीत घोषाल

जिले में शुक्रवार काे मकर संक्रांति, टुसू और पाेंगल पर्व की धूम रही। मिथिला पंचांग और मिथिला विश्वविद्यालय पंचांग को माननेवालाें ने सूर्य के दंडचक्र के आधार पर मकर संक्रांति का पर्व मनाया। स्नान आदि के बाद दान-पुण्य किया। वहीं, ऋृषिकेश पंचांग के अनुसार सूर्य का शुक्रवार की रात 8:34 बजे कर्क से मकर राशि में प्रवेश हुआ।

इसके साथ ही एक महीने से चला आ रहा खरमास समाप्त हाे गया। सूर्य के मकर राशि में प्रवेश और उदयातिथि के आधार पर शनिवार काे भी मकर संक्रांति मनाई जाएगी। लाेग सुबह में नदी, तालाब में स्नान कर सूर्य देव काे जल अर्पित करेंगे और दान-पुण्य करेंगे। पंडित सुधीर पाठक का कहना है कि शनिवार काे पड़नेवाला मकर संक्रांति का पर्व हर तरह से शुभ है। आराध्य देवी-देवताओं काे चूड़ा, दही, तिल, ितलकुट आदि का प्रसाद चढ़ाएं और पूरे परिवार के साथ उसे प्रसाद के रूप में ग्रहण करें। रात में खिचड़ी का भाेजन करें।

सूर्यदेव के पुत्र हैं शनि, मकर राशि में प्रवेश के साथ ही उनका मिलन शुभ
सुधीर पाठक कहते हैं कि भगवान सूर्य के ही पुत्र हैं शनि। मकर राशि में प्रवेश के साथ ही सूर्य और शनि का मिलन बहुत शुभ है। काला तिल, तिल का तेल आदि अर्पित करने और कंबल व काले वस्त्र गरीबाें के बीच दान करने से शनि दाेष का भी निवारण हाेगा। तिल ग्रहण करने से भी शनि दाेष कटता है। शनिवार के साथ मकर संक्रांति पर खिचड़ी ग्रहण करने से भी शनि दाेष कटेगा। शनिदेव इससे प्रसन्न हाेंगे।

सिंह, मकर, वृश्चिक राशिके लिए शुभ फलदायी
ज्याेतिषाचार्याें के अनुसार, पाैष माह में शनिवार काे पड़नेवाली मकर संक्रांति सिंह, मकर, वृश्चिक राशिवालाें के लिए बहुत ही शुभ है। सुख, समृद्धि, आराेग्य के साथ हर क्षेत्र में प्राेन्नति के आसार हैं। वृष, मिथुन और कर्क राशि वालाें के लिए यह पर्व सामान्य रहेगा।

आज से हिंदुओं के सभी शुभ कार्य शुरू हाे जाएंगे
15 दिसंबर काे शुरू हुआ खरमास 14 जनवरी की रात 8:34 बजे सूर्य के कर्क से मकर राशि में प्रवेश करते ही समाप्त हाे गया। शनिवार से सभी शुभ कार्य शुरू हाे जाएंगे। मान्यता है कि मकर राशि में सूर्य के प्रवेश के बाद शरद ऋृतु का प्रभाव कम हाेने लगता है। यह बसंत ऋृतु के आगमन का भी प्रतीक है।

खबरें और भी हैं...