जेबीसीसीआई-11 की तीसरी बैठक पर काेराेना का साया:काेल इंडिया लिमिटेड के कई पदाधिकारी और यूनियनाें के नेता संक्रमण की चपेट में आए

धनबाद8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • संक्रमण की तीसरी लहर थमने के बाद ही संभव दिख रही है बैठक

काेयलाकर्मियाें के वेतन समझौते के लिए गठित ज्वांइट बाइपरटाइट कमेटी ऑफ कोल इंडस्ट्रीज (जेबीसीसीआई-11) की संभावित तीसरी बैठक पर काेराेना का साया गहरा गया है। बैठक के आयाेजक की जिम्मेवारी काेल इंडिया के जिन अधिकारियाें पर हैं, उनमें से अधिकतर या ताे खुद या उनके परिजन संक्रमण की चपेट में आ गए हैं। जेबीसीसीआई में काेयलाकर्मियाें का प्रतिनिधित्व करनेवाली विभिन्न यूनियनाें के नेता भी काेराेना की वजह से परेशान हैं।

ऐसे में न ताे काेल इंडिया प्रबंधन और न ही यूनियन प्रतिनिधियाें की ओर से बैठक के लिए काेई पहल हाेती दिख रही है। अब संभावना यही लग रही है कि काेराेना की तीसरी लहर की समाप्ति के बाद ही जेबीसीसीआई की तीसरी बैठक आयाेजित की जा सकेगी।

काेल इंडिया के आईआर जीएम समेत 10 से ज्यादा पदाधिकारी संक्रमित
जानकारी के अनुसार, काेल इंडिया के जीएम (आईआर) अजय कुमार चाैधरी, डायरेक्टर की पत्नी के साथ-साथ कंपनी के 10 से अधिक पदाधिकारी काेराेना से प्रभावित हैं। लेबर यूनियन सीटू के नेता डीडी रामानंदन समेत कई अन्य सर्दी, खांसी, बुखार से पीड़ित हैं और फिलहाल स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं।

ऐसे में संभावना यही बन रही है कि जेबीसीसीआई की तीसरी बैठक अब काेराेना की तीसरी लहर थमने के बाद ही आयाेजित की जाए। काेराेना की वजह से ही जेबीसीसीआई के सदस्याें की ओर से भी काेई पहल हाेती नहीं दिख रही है। पूछने पर हिंद मजदूर सभा (एचएमएस) के नाथूलाल पांडेय कहते हैं कि बैठक के लिए काेल इंडिया प्रबंधन की ओर से काेई संकेत नहीं दिए गए हैं। एेसे में कम-से-कम जनवरी में ताे बैठक नहीं ही हाेगी।

15 नवंबर काे आयोजित हुई थी जेबीसीसीआई की दूसरी बैठक

जेबीसीसीआई की दूसरी बैठक 15 नवंबर काे आयोजित की गई थी। उसमें अगली बैठक जनवरी में रखने का प्रस्ताव रखा गया था। इसी बीच दिसंबर महीने के मध्य में एक बार फिर से काेराेना संक्रमण बढ़ने लगा और देखते-देखते देशभर में यह काफी तेजी से फैल गया। उस पर भी यूनियनाें के प्रतिनिधि वर्चुअल मीटिंग काे तैयार नहीं हैं, वे आमने-सामने बैठकर ही वेतन समझाैते पर चर्चा करना चाहते हैं। विशेषज्ञ फरवरी में काेनाेना की तीसरी लहर का पीक मान रहे हैं। एेसे में फरवरी के बाद ही अगली बैठक की स्थिति बन सकती है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...