छठ से पहले घाटों का निरीक्षण:नदी-तालाबों के अधिकतर घाट जलमग्न होगी बैरिकेडिंग, गोताखोरों की भी तैनाती

धनबाद23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बेकारबांध घाट की सीढ़ियां भी पानी में। - Dainik Bhaskar
बेकारबांध घाट की सीढ़ियां भी पानी में।

दिवाली के समाप्त हाेने के साथ ही घराें में लाेकआस्था का महापर्व छठ की तैयारी शुरू हाे गई है। 8 नवंबर को नहाय-खाय के साथ चार दिवसीय महापर्व शुरू हाे जाएगा। 9 को खरना है। वहीं 10 को अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को प्रथम अर्घ्य अर्पण होगा, वहीं 11 को उदीयमान सूर्य को। इस बार घाटाें पर जाकर छठ करने वाले व्रतियाें काे काफी सावधानी बरतनी हाेगी, क्याेंकि शहर के तालाबाें से लेकर दामाेदर और बराकर नदी तक लबालब भरे हैं। अधिकतर तालाबाें में 2 से 3 फीट पानी बढ़ा हुआ है। जलस्तर बढ़ने के कारण छठव्रतियाें काे इस बार छठ में विशेष सावधानी बरतनी पड़ेगी। पानी बढ़ने के कारण तालाब के किनारे बने घाट की कहीं एक ताे कही-कहीं दाे सीढ़ी पूरी तरह से डूबी हुई हैं। सीढ़ियों में पानी रहने के कारण उनमें काफी फिसलन भी है। एेसे में मामूली असंतुलन से भी गिरने की आशंका है। वहीं दामाेदर और बराकर नदी में भी पिछले वर्षों की तुलना में ज्यादा पानी है। दामोदर नदी के किनारे और बराकर नदी में स्थित भटिंडा फॉल में काफी संख्या में छठव्रती जुटते हैं। ऐसे में ज्यादा जलस्तर होने के कारण व्रतियाें काे भी विशेष सावधानी बरतनी हाेगी।

शहर के किन तालाबों में अभी कितना भरा है पानी

रानीबांध, धैया | रानीबांध तालाब का जलस्तर भी इस बारिश में दाे फीट बढ़ा हुआ है। इस तालाब में पक्का घाट नहीं है। कच्चा घाट हाेने के कारण तालाब के चारों अाेर दलदल है है। इस मिट्टी में काफी फिसलन है।

राजेंद्र सराेवर, बेकारबांध | यहां भी तीन फीट पानी बढ़ा हुआ है। सराेवर में पक्का घाट है। घाट सीढ़ीनुमा बना है। तालाब में पानी भरने से दाे सीढ़ी डूबी हुई हैं। सीढ़ियों के डूबे रहने के कारण उनमें काफी फिसलन है।

विकास नगर छठ तालाब |मटकुरिया विकास नगर छठ तालाब का पानी भी बढ़ा हुआ है। इस तालाब के चाराें ओर पक्का घाट बना हुआ है। घाट की निचली सीढ़ी पानी में डूबी हुई है।

मनईटांड़ छठ तालाब | मनईटाड़ छठ तालाब में भी पानी कम नहीं है। यहां भी बरसात के कारण एक से दाे फीट बढ़ गया है। यहां भी एक सीढ़ी पानी में डूब चुकी है। तालाब के चाराें ओर यहीं स्थिति है।

लाेकाे टैंक तालाब |वाॅच एंड वाॅच काॅलाेनी स्थित लाेकाे टैंक तालाब में भी काफी संख्या में लाेग छठ करने पहुंचते है। यहां पक्का घाट ठीक-ठाक है, लेकिन पानी अधिक हाेने से घाट का निचला हिस्सा डूबा हुआ है।खाेखन तालाब, हीरापुर |जेसी मल्लिक राेड हीरापुर छठ तालाब में पानी ताे घाट के बराबर है। यहां पक्का धाट एक तरफ है, वहीं तीनाें तरफ कच्चे घाट ही हैं। इन घाटाें पर कीचड़ है।

उफन रही बराकर नदी...इससे मैथन डैम भी लबालब

शहरी क्षेत्र की तालाबाें से कहीं अधिक मैथन डैम का जलस्तर बढ़ा हुआ है। बरसात के माैसम में दाे-दाे बार डैम का पानी खतरे के निशान काे पार कर गया था। अधिक पानी हाेने के कारण यहां खतरा अधिक बना हुआ है।

दामाेदर के मोहलबनी घाट का निचला हिस्सा जलमग्न | माेहलबनी घाट पर दामाेदर का जलस्तर भी ज्यादा है। दाे से तीन फीट पानी बढ़ा हुआ है। पक्के घाट ताे है, लेकिन उसका निचला हिस्सा डूबा हुआ है।

खबरें और भी हैं...