आदेश जारी:ऑक्सीजन लेवल में सुधार हुआ तो आईसीयू वार्ड में नहीं रहेंगे मरीज

धनबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • जिन मरीजों में हो रहा सुधार, वे आईसीयू बेड नहीं छोड़ना चाहते, इसलिए उनकी रोज होगी जांच

कोरोना संक्रमित गंभीर मरीजों को आईसीयू बेड उपलब्ध कराने काे लेकर जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकार ने बुधवार काे महत्वपूर्ण निर्णय लिया। प्राधिकार के अध्यक्ष सह डीसी उमा शंकर सिंह ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से कोविड कंट्रोल रूम में जाे सूचनाएं आ रही है, उसके अनुसार कई मरीज, जिनका ऑक्सीजन लेवल 60-65 पहुंच गया है, उन्हें समय पर आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं हाे पा रहा है।

वहीं यह बात भी सामने आई कि आईसीयू में इलाजरत कई मरीज स्टेबल होने के बाद भी आईसीयू बेड नहीं छाेड़ना चाहते और इसके लिए अस्पताल प्रबंधन काे पैरवी व धाैंस दे रहे हैं। इस कारण गंभीर मरीजों को समय पर आईसीयू बेड उपलब्ध नहीं हाे पा रहा है। डाटा का विश्लेषण के बाद प्राधिकार ने निर्णय लिया है कि जिले के सभी सरकारी व निजी काेविड हाॅस्पिटलों, काे निर्देश दिया गया है कि आईसीयू वार्ड में भर्ती सभी मरीजाें का प्रत्येक दिन वाइटल्स की जांच करें। अगर उनकी स्थिति स्टेबल है और आाईसीयू वार्ड से ऑऑक्सीजन सपाेर्टेड बेड में शिफ्ट करने के याेग्य हैं ताे उन्हें ओटू सपाेर्टेड बेड में रेफर करें।

अब एक-एक मरीज की निगरानी की योजना बनी

जिला आपदा प्रबंध प्राधिकार के अध्यक्ष का कहना है कि कंट्राेल रूम से जिले के सभी काेविड अस्पतालाें के आईसीयू बेड की निगरानी की जाएगी। सभी प्रशासनिक व मेडिकल नाेडल पदाधिकारियाें काे निर्देश दिया गया है कि सभी निजी अस्पतालों में आईसीयू व नन आईसीयू में इलाजरत मरीज, उनके एडमिशन व डिस्चार्ज की निगरानी करें, जिससे वहां की जानकारी प्राधिकार को मिल सके। इन न के काेविड अस्पताल, जहां आइसीयू वार्ड की व्यवस्था है, वहां यह निर्देश प्रभावी होगा। इनमें सदर अस्पताल, एसएनएमएमसीएच कैथलैब , सेंट्रल हाॅस्पिटल, रेलवे हाॅस्पिटल, टाटा जामा

जिले के सभी सरकारी व सार्वजनिक संस्था

डोबा अस्पताल, एशियन जालान, प्रगति नर्सिंग होम, जिम्स, यसलोक, अशर्फी, आम्रपाली, हिलमैक्स, राज क्लिनिक, शक्ति नर्सिंग होम, पाटलिपुत्र नर्सिंग होम, आरोग्य नर्सिंग होम, चक्रवर्ती नर्सिंग होम, चौधरी नर्सिंग होम, पॉपुलर नर्सिंग होम, संजीवनी, सनराइज हॉस्पिटल, ओम साईं हॉस्पिटल, हेल्थी लाइफ केयर, नारायणी नर्सिंग होम और पार्क क्लिनिक।

खबरें और भी हैं...