पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • People Made A Distance From The People Who Defeated Corona, Neither Giving Any Job, Nor Doing Business… Also Stopped Talking

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अब भेदभाव का संक्रमण:कोरोना को हरा चुके लोगों से अपनों ने बना ली दूरी, न कोई दे रहा नौकरी, न कर रहा कारोबार...बातचीत करना भी छोड़ दिया

धनबाद5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना से जीते लोगों का एक ही सवाल... संक्रमण से तो हम ठीक हाे गए, पर समाज भेदभाव के संक्रमण से कैसे ठीक होगा?

कोरोना को हरा दिया...। ठीक होकर अस्पताल से निकले तो डॉक्टरों ने तालियां बजा कर सम्मान दिया...। नियमानुसार होम क्वारेंटाइन पूरा किया...। सोचा, चलो अब सबकुछ ठीक हो गया। पर जब घर के बाहर पैर रखा तो दुनिया ही बदली हुई थी। पड़ोसी देख कर दरवाजा बंद कर रहे थे। नमस्कार करने पर न मुहल्ले के दुकानदार चाचा जवाब दे रहे थे और न ही पान वाले भैया। न कोई बात करना चाह रहा था और न ही कोई मिलना। लोग मुंह फेर रहे थे। लोगों का यह रवैया कोरोना से भी अधिक दर्द दे रहा था।

यह पीड़ा कोरोना की जंग जीत कर लौटे कई लोगों की है। वे कोरोना के बाद भेदभाव के संक्रमण से लड़ रहे हैं। उन्हें नौकरी नहीं मिल रही है। उनके साथ कोई कारोबार नहीं करना चाह रहा है। पड़ोसी और मित्रों ने बातचीत तक करना बंद कर दिया है। संक्रमण से ठीक होकर सामाजिक भेदभाव झेल रहे लोगों का एक ही सवाल है... संक्रमण से तो हम ठीक हाे गए, पर समाज भेदभाव के संक्रमण कैसे ठीक होगा?

ठीक होकर लौटा तो ऑफिस आने की इजाजत नहीं मिली

आजाद नगर भूली के रहनेवाले हैं। कोरोना से संक्रमित होने के बाद अस्पताल में भर्ती हुए। ठीक हाेकर घर लौटे। नियमाें का पालन करने के बाद ऑफिस पहुंचे। पर ऑफिस में उन्हें इंट्री नहीं मिली। वह कहते हैं कि ड्यूटी पर रखने के लिए प्रबंधन, एचआर व संचालक से बातचीत की। लेकिन, बात नहीं बनी। पिछले एक हफ्ते से परेशान हैं।

कंपनी से अब तक योगदान देने को नहीं कहा गया। उन्होंने बताया कि संक्रमण के कारण मां की माैत हाे गई। परिवार के और तीन लाेग संक्रमित पाए गए। ऐसे में नाैकरी चली जाएगी ताे परिवार का पालन-पाेषण मुश्किल हाे जाएगा।

दुकान पर नहीं आते कस्टमर कोई मिलना भी नहीं चाहता

बैंक माेड़ के एक दवा व्यवसायी भी लाेगाें की साेच से दु:खी है। दवा काराेबारी कहते हैं कि उन्हें कोरोना हुआ था। उन्होंने कोरोना के संक्रमण को हरा दिया। ठीक होकर नियमानुसार दुकान खोला। दुकान खाेलने से पहले अच्छे से सेनेटाइजेशन कराया। लेकिन, सालाें से भराेसेमंद रहे ग्राहकों ने दुकान बदल दिया। ग्राहक उनकी दुकान पर नहीं आते। पड़ाेस के दुकान चले जाते हैं। मिलने आनेवाले भी कम हाे गए हैं, अधिकतर लाेग फाेन पर ही काम निबटाना चाहते हैं, बुलाने पर भी नहीं आते। कोई मिलना नहीं चाहता। कोई बात करना नहीं चाहता।

भाग जाते हैं पड़ोस के बच्चे बड़े भी बदल लेते हैं रास्ता

भूली बस्ती के रहनेवाले 50 वर्षीय पीड़ित बताते हैं कि 15 जुलाई काे रिपाेर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें काेविड अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। अस्पताल से लाैटने के बाद वह पूरे 14 दिनाें तक घर के लाेगाें से भी अलग व दूर रहे। लेकिन अब भी वह घर से निकलते हैं ताे मुहल्ले के बच्चे देखते ही भागने लगते हैं। बच्चे ही नहीं मुहल्ले के बड़े लाेग भी रास्ता बदल लेते हैं। मेरे साथ ही नहीं, परिवार के अन्य सदस्याें के साथ भी लाेग अछूत जैसा व्यवहार करते हैं। जबकि परिवार के अन्य सदस्याें की रिपाेर्ट निगेटिव अाई थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser