पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विश्वकर्मा प्रोजेक्ट जमींदोज मामला:पीओ व मैनेजर दोषी, इनकी लापरवाही से महिला की मौत

धनबाद6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भास्कर ब्रेकिंग : दोनों अधिकारियों को बीसीसीएल ने दी कार्रवाई की चेतावनी

बीसीसीएल कुसुंडा एरिया के विश्वकर्मा प्राेजेक्ट के गाेरखपुरिया कैंप के पास महिला के जमींदाेज हाेने के मामले में काेलियरी के प्राेजेक्ट ऑफिसर शैलेंद्र कुमार और काेलियरी मैनेजर रानू रंजन दाेषी करार दिए गए हैं। डीजीएमएस ने दाेनाें अधिकारियाें काे लापरवाही बरतने का जिम्मेवार माना है। डीजीएमएस की रिपाेर्ट पर बीसीसीएल प्रबंधन ने दाेनाें अधिकारियाें विभागीय काररवाई की चेतावनी दी है।

पीओ सिन्हा वर्तमान में विश्वकर्मा प्राेजेक्ट में बने हुए हैं, जबकि काेलियरी मैनेजर रानू रंजन का तबादला डब्ल्यूसीएल में हाे गया है। घटना की जांच डीजीएमएस ने जांच शुरू की थी। प्राेजेक्ट आफिसर और काेलियरी मैनेजर काे कारण बताओ नाेटिस जारी करते हुए जवाव मांगा। दाेनाें अधिकारियाें के जवाब से असंतुष्ट डीजीएमएस के जांच रिपोर्ट बीसीसीएल को सौंप दी।

18 दिसंबर 2020 : गोफ में समा गई थी महिला, शॉवेल से निकाला गया था शव

विश्वकर्मा प्राेजेक्ट के गाेरखपुरिया कैंप के पास रह रहे एक परिवार की महिला कल्याणी देवी 18 दिसंबर की सुबह शाैच करने गई थी। अचानक वहां गाेफ बन गया और महिला उसमें गई। 7 साल की बच्ची काेमल बाल-बाल बच गई थी। घटना के बाद डब शावेल मशीन से शव निकाला गया।

इधर, गोफ में गिरे युवक की इलाज के दौरान मौत

केंदुआ|कुसुंडा क्षेत्र के गनसाडीह तीन नम्बर में अग्निप्रभावित गोफ में धंसे युवक उमेश पासवान की बोकारो जेनरल अस्पताल में घटना के 70 घंटे बाद इलाज के दौरान मंगलवार की रात तीन बजे मौत हो गयी। रविवार शौच जाने के क्रम में उमेश गहरे गोफ में धंस कर फंस गया था।

इधर, गोफ में गिरे युवक की इलाज के दौरान मौत

लोगों को नहीं हटाया, खनन क्षेत्र की घेराबंदी नहीं की, इस कारण हादसा

डीजीएमएस ने ओर से घटना की जांच सेंट्रल जाेन तीन के उप निदेशक साकेत भारती से कराई। भारती ने जांच रिपोर्ट में उन्होंने उल्लेख किया कि डेंजर जाेन में रह रहे परिवाराें काे शिफ्ट कराने में दोनों अधिकारियों गंभीरता नहीं दिखाई। नीचे आग हाेने के कारण उक्त क्षेत्र असुरक्षित घाेषित है। खनन स्थल की सतत निगरानी नहीं कराई गई और न ही उक्त स्थल की सुरक्षित तरीके से घेराबंदी कराई गई। ऐसा करने से घटना काे राेका जा सकता था। दाेनाें अधिकारियाें ने लापरवाही बरती, जिस कारण घटना घटी।

डीजीएमएस की जांच में दोषी मिले पीओ व मैनेजर

  • महिला के जमींदाेज हाेने के मामले में कोलियरी के प्रोजेक्ट ऑफिसर व काेलियरी मैनेजर दाेषी पाए गए है। जांच के दौरान दोनों अधिकारियों का जवाब संताेषजनक नहीं पाया गया। उनकी लापरवाही से ही घटना हुई।-मुकेश कुमार सिन्हा, डायरेक्टर, डीजीएमएस
खबरें और भी हैं...