पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

भास्कर खास:रक्षाबंधन का पर्व कल, आज रात 9 बजे तक खुली रहेंगी राखियों और मिठाइयों की दुकानें

धनबाद3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला चैंबर के आग्रह पर प्रशासन ने लाॅकडाउन की शर्ताें में एक दिन के लिए दी छूट
Advertisement
Advertisement

सावन पूर्णिमा और रक्षा बंधन साेमवार काे है। भगवान भाेलेनाथ के भक्त उनकी आराधना करेंगे। बहनें अपने भाइयाें की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधकर उनकी लंबी उम्र की कामना करेंगे। भाई भी अपनी बहनाें काे उनकी रक्षा करने का वचन देंगे। भाई-बहन के पवित्र रिश्ते के इस पर्व काे देखते हुए जिला प्रशासन ने लाॅकडाउन की शर्ताें में कुछ ढील देने का फैसला किया है।

रक्षा बंधन के एक दिन पहले यानी रविवार काे राखी और मिठाई की दुकानाें काे शाम 7 बजे के बजाय रात 9 बजे तक खाेलने की अनुमति दी गई है। असल में, फेडरेशन ऑफ धनबाद जिला चैंबर ऑफ काॅमर्स ने रक्षा बंधन के पर्व काे देखते हुए एसडीएम से दुकानें ज्यादा देर तक खाेलने की अनुमति देने का आग्रह किया था।

चैंबर का कहना था कि राखियां अगर नहीं बिकीं, ताे सालभर दुकानाें में पड़ी रहेंगे और फिर खराब या आउटडेटेड भी हाे जाएंगी। इसी तरह मिठाइयां भी अगर बच गईं, ताे बर्बाद ही हाे जाएंगी। दाेनाें स्थितियाें में काराेबारियाें काे काफी नुकसान हाेगा। चैंबर के आग्रह पर एसडीएम राज महेश्वरम ने रविवार काे रात 9 बजे तक दाेनाें तरह की दुकानें खाेलने की इजाजत काराेबारियाें काे दे दी। एसडीएम ने साथ ही निर्देश दिया कि पर्व की खरीदारी करने काफी लाेग दुकानाें में आएंगे।

ऐसे में साेशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखना हाेगा। उन्हाेंने कहा कि सभी दुकानदार अपने स्टाफ और आने वाले ग्राहकों को मास्क जरूर पहनने काे कहें। साथ ही दुकान के बाहर हैंड सेनेटाइजर भी रखें और हर आने-जाने वाले काे उसका इस्तेमाल करने काे कहें। रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त 3 को सुबह 9:29 तक भद्रा है। 9:30 बजे से रात तक कभी राखी बांध सकते हैं। दोपहर में 1:35 बजे से शाम 4:35 बजे तक और फिर शाम 7:30 बजे से रात 9:30 बजे तक बहुत अच्छा मुहूर्त है।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप अपनी रोजमर्रा की व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौजमस्ती के लिए भी निकालेंगे। मित्रों व रिश्तेदारों के साथ समय व्यतीत होगा। घर की साज-सज्जा संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत हो...

और पढ़ें

Advertisement