पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना का कहर:गंभीर काेविड मरीजाें काे अब भी नहीं मिल रहा वेंटीलेटर, इंतजार में बुजुर्ग की हुई माैत

धनबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रगति अस्पताल में इलाज के दौरान सुरेश पोद्दार। - Dainik Bhaskar
प्रगति अस्पताल में इलाज के दौरान सुरेश पोद्दार।
  • जिले के काेविड अस्पतालाें में आईसीयू, ऑक्सीजन सपाेर्टेड और जनरल बेड की कमी नहीं, क्याेंकि दाे सप्ताह में 2.51% बढ़ी रिकवरी दर, पर...
  • आईसीयू बेड 20 व ऑक्सीजन सपोटेड बेड 372 हैं उपलब्ध

बाघमारा के 63 वर्षीय सुरेश पोद्दार को धनबाद के किसी भी अस्पताल में वेंटीलेटर बेड नहीं मिला। वे पिछले कई दिनों से सरायढेला स्थित प्रगति अस्पताल में भर्ती थे। उनका ऑक्सीजन लेवल काफी कम था और उन्हें 25 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही थी।

अस्पताल प्रबंधन ने मरीज के लिए वेंटीलेटर स्पोर्ट जरूरी बताया। परिजन दो दिनों तक एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक दाैड़ लगाते रहे, लेकिन वेंटीलेटर का इंतजाम नहीं हुआ। सांसद के प्रयास से शनिवार काे सेंट्रल अस्पताल में एक वेंटीलेटर बेड का इंतजाम हुआ, लेकिन तब तक मरीज की स्थिति काफी ज्यादास खराब हाे चुकी थी।

उन्हें प्रगति से सेंट्रल अस्पताल शिफ्ट करना भी मुश्किल हाे गया। आखिरकार सुबह में उन्हाेंने दम ताेड़ दिया। काेराेना वायरस के गंभीर संक्रमण से पीड़ित मरीजाें काे जिले के अस्पतालाें में अब भी वेंटीलेटर बेड उपलब्ध नहीं हाे पा रहा है। विभिन्न काेविड अस्पतालाें में कुल 67 वेंटीलेटर बेड हैं, लेकिन वे लगातार फुल चल रहे हैं। हालांकि ऑक्सीजन सपाेर्टेड और जनरल बेड अब अच्छी संख्या में और कुछ संख्या में आईसीयू बेड भी उपलब्ध हैं। इसकी वजह यह है कि पिछले कुछ दिनाें में नए संक्रमित मिलने के मुकाबले स्वस्थ हाेने वालाें की संख्या अधिक रही है। 2 मई काे जहां जिले में रिकवरी रेट 84.26 फीसदी था, वहीं 14 मई काे यह बढ़कर 86.77 फीसदी हाे गया।

खबरें और भी हैं...