पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रिसर्च:जल्द ही लार से भी संभव हो सकेगी कोरोना जांच, प्रेग्नेंसी टेस्ट किट की तर्ज पर ईजाद की कोशिश

धनबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस शाेध में आईआईटी आईएसएम के साथ पीजीआई चंडीगढ़ और ब्रिटिश काेलंबिया यूनिवर्सिटी कनाडा के भी विशेषज्ञ शामिल हैं। - Dainik Bhaskar
इस शाेध में आईआईटी आईएसएम के साथ पीजीआई चंडीगढ़ और ब्रिटिश काेलंबिया यूनिवर्सिटी कनाडा के भी विशेषज्ञ शामिल हैं।
  • ऐसा कोरोना टेस्ट किट तैयार कर रहा आईआईटी आईएसएम, जो संक्रमण की सही जानकारी दे सकेगी
  • शिक्षा मंत्रालय ने शोध के लिए 9.5 लाख रुपए का दिया फंड

काेराेना संक्रमिताें के इलाज में पहली जरूरत उसकी सही जांच हाेती है। इसकाे देखते हुए प्रेग्नेंसी किट की तरह ऐसी टेस्ट किट विकसित करने की काेशिश की जा रही है, जाे संक्रमण की सही जानकारी दे। इस शाेध में आईआईटी आईएसएम के साथ पीजीआई चंडीगढ़ और ब्रिटिश काेलंबिया यूनिवर्सिटी कनाडा के भी विशेषज्ञ शामिल हैं।

मेमरिस्टर-बेस्ड बायाेसेंसर फाॅर काेविड-19 नाम के इस प्राेजेक्ट काे शिक्षा मंत्रालय से इंडाे-शास्त्री काेलेबाेरेटिव रिसर्च ग्रांट के ताैर पर करीब 9.5 लाख रुपए का फंड मिला है। इससे पहले आईआईटी वायरस से बचाव काे लेकर सिल्वर नैनाे-पार्टिकल्स आधारित सुपरहाइड्राेफाेबिक एंटी-वायरल काेटिंग विकसित कर चुका है, जिससे वायरस काेटिंग किए कपड़ाें या अन्य सतह पर आते ही स्वत: खत्म हाे जाता है।

पीजीआई चंडीगढ़ व कनाडा का ब्रिटिश काेलंबिया यूनिवर्सिटी भी शाेध में शामिल

कोरोना टेस्ट किट से संक्रमण की गंभीरता का भी पता चलेगा | शाेध में शामिल आईआईटी के इलेक्ट्राॅनिक्स इंजीनियरिंग विभाग के प्राे राजीव रंजन ने बताया कि रिसर्च ग्रांट काे लेकर प्रपाेजल दिया गया था, जाे स्वीकृत हाे गया। फिलहाल थ्याेरेटिकल स्टडी ही हाे पाई है और उससे बेहतर उम्मीद जगी है। काेशिश हाेगी कि टेस्ट किट से ही संक्रमण की गंभीरता का भी पता चल पाए।

संक्रमित की पहचान के लिए जांच में शुद्धता की काेशिश

प्राे राजीव रंजन ने बताया कि काेविड-19 की जांच में शुद्धता लाने की भी काेशिश है, ताकि काेई संक्रमित हाे ताे टेस्ट किट उसकी हर हालत में पुष्टी कर दे। यह काेराेना से पीड़ित मरीजाें की जांच के लिए एक डिवाइस है। सेंसर खुद डिजाइन करेंगे और ताइवान में उसे बनवाने की काेशिश हाेगी।

आईआईटी के दो रिसर्च स्कॉलर भी कर रहे इस पर शोध

इलेक्ट्राॅनिक्स इंजीनियरिंग विभाग के प्राे राजीव रंजन ने बताया कि शाेध में पीजीआई चंडीगढ़ के चिकित्सक डाॅ केके प्रसाद और ब्रिटिश काेलंबिया यूनिवर्सिटी, कनाडा के प्राे बाॅब गिल शामिल हैं। इनके अलावा आईआईटी धनबाद के ही रिसर्च स्काॅलर प्रशांत कुमार और पुष्कर श्रीवास्तव भी शामिल हैं।