• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • The Person Who Cheated Crores Of Rupees In The Name Of Sending Haj Was Caught From Bhuiphod, Living In Dhaiya, Was Running A Travel Agency In Gavindpur

ठगी का मामला:हज भेजने के नाम पर करोड़ों रुपए की ठगी करने वाला भुईफोड़ से पकड़ाया, धैया में रहकर गाेविंदपुर में चला रहा था ट्रैवल एजेंसी

धनबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इरशाद की ठगी के शिकार कई लोग सोमवार की रात एसएसपी आवास पहुंचे और आपबीती बताई। - Dainik Bhaskar
इरशाद की ठगी के शिकार कई लोग सोमवार की रात एसएसपी आवास पहुंचे और आपबीती बताई।

हज भेजने के नाम पर लाेगाें काे ठगने का आराेपी इरशाद आलम उर्फ नाैशाद आलम उर्फ कबीर अहमद सरायढेला के भुईफाेड़ से पकड़ा गया। रांची की ओरमांझी पुलिस काे इरशाद की वर्ष 2020 से तलाश थी। ओरमांझी पुलिस काे सूचना मिली कि इरशाद धनबाद में नाम बदलकर रह रहा है। वरीय अधिकारियाें के माध्यम से सूचना सरायढेला पुलिस काे दी गई। पुलिस ने नाटकीय तरीके से आराेपी काे गिरफ्तार कर लिया। इरशाद के खिलाफ झारखंड ही नहीं, बिहार में कई मामले दर्ज हैं।

धनबाद के लोगों से भी 3 करोड़ रुपए ठगे

इरशाद ठगी का शिकार बनाने के लिए लब्बैक टूर एंड ट्रेवल्स एजेंसी खाेल रखी थी। विश्वास दिलाने के लिए हज जाने वालों को ट्रनिंग भी कराता था। ट्रेनिंग देने का काम उसका दूसरा सहयोगी बोकारो का मुक्ती वसी अहमद कराता है। लाेगाें काे फिलहाल हज 2022 में हज जाने वालाें के लिए 3.7 लाख में बुकिंग कर रहा था। गाेविंदपुर में ऑफिस खाेल कबीर अहमद के नाम से लाेगाें काे ठगता था।

इरशाद ने अपना तीन और पिता के भी रखे थे दो नाम

सिवान माधोपुर बडारिया का सईद आजाद अहमद का बेटा इरशाद आलम तीन नामाें से जाना जाता है। इरशाद नाम के आधार कार्ड से छेड़छाड़ कर नाैशाद अहमद खान बन गया। इसके अलावा उसने कबीर अहमद नाम का भी आधार कार्ड बना रखा है। पिता के भी दो नाम रखे थे। वह अभी गणपति टावर राहरगाेरा धैया में रह रहा था।

खबरें और भी हैं...