पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संक्रमण से मुक्ति की राह:गांव का फैसला- अंतिम यात्रा में 6 जाएंगे शादियां टालीं, बाहरियों के प्रवेश पर रोक

धनबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काशीटांड़- प्रवेशमार्ग में बैरियर, 100 लोगों ने ली वैक्सीन - Dainik Bhaskar
काशीटांड़- प्रवेशमार्ग में बैरियर, 100 लोगों ने ली वैक्सीन
  • जिन गांवों में कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें, वहां पहुंचा भास्कर
  • अपनों को खोने के बाद सजग हुए ग्रामीण, कोरोना को हराने के लिए कई नियम बनाए

बरवाअड्डा में जीटी राेड से सटा गांव काशीटांड़ गांव...। गांव में प्रवेश करते ही बांस का बैरियर...। गलियाें में सन्नाटा...। घरों के बंद दरवाजे। जब भास्कर टीम गुरुवार को गांव पहुंची तो यही नजारा दिखा। सप्ताहभर में संक्रमित छह लाेगाें के माैत से काशीटांड़ जिलेभर में चर्चे में आया। मृतकों में गांव में एक परिवार के पांच सदस्य शामिल थे। छह की माैत के बाद प्रशासन भी रेस हुआ। जांच के लिए गांव में दाे दिनाें तक काेविड जांच शिविर लगा।। 187 लाेगाें की जांच में 12 संक्रमित मिले। इनमें 10 अब स्वस्थ हो चुके हैं।

छह की माैत और 12 के संक्रमित होने के बाद गांव वालाें ने खुद ही काेराेना काे हराने के लिए निर्णय लिया। सुखद परिणाम यह है कि आज गांव संक्रमण से मुक्ति की राह पर है। पूर्व मुखिया खेमनारायण सिंह व वर्तमान मुखिया प्रभा देवी के पति शिव प्रकाश पांडेय बताते हैं कि गांव वालों काे संक्रमित हाेने से बचाने के लिए कुछ निर्णय लिया, जिसकी वजह से गांव में फिर कोई संक्रमित नहीं हुआ। गांव के मुहाने पर बांस का बैरियर लगाया गया, ताकि बाहरी लोग घुस नहीं सके। गांववालों ने दूसरे गांवों में रहने वाले रिश्तेदारों को आने से मना कर रखा है। वहीं गांव में जितनी शादियां थीं, उन्हें भी टाल दिया गया है। मौत होने के बाद मस्जिद से मुनादी बंद करा दी गई है। जनाजे में सिर्फ कंधे देने वाले ही जाएंगे, अन्य नहीं। दाह संस्कार के लिए भी यही नियम रखा गया है। गांव में कोई भी छींकता-खांसता भी है तो गांववाले दबाव डालकर उन्हें बरवाअड्डा में डॉक्टर के पास भेजते हैं। 100 लोगों ने वैक्सीनेशन करवा लिया लिया है।

खबरें और भी हैं...