• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • Water Supply In The City For 20 Minutes In The Morning, Water Runs Out Before Evening, Supply Stalled In 17 Areas For A Week, People Upset

घरों में पानी पहुंचना हुआ मुश्किल:शहर में सुबह 20 मिनट ही जलापूर्ति, शाम से पहले ही पानी खत्म, 17 इलाकों में सप्ताहभर से सप्लाई ठप, लोग परेशान

धनबाद9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिल कटने पर कंपनी रोज कर रही 15 एमएलडी पानी की कटौती, डीडब्ल्यूएसडी की राशनिंग से घरों में पानी पहुंचना हुआ मुश्किल

मैथन स्थित इंटेकवेल से धनबाद के भेलाटांड़ वाटर ट्रीटमेंट प्लांट तक पानी पहुंचाने वाली कंपनी मेसर्स अभय सिन्हा ने 15 एमएलडी (मिलियन लीटर डे) की कटाैती शुरू कर दी है। इसकी वजह डीडब्ल्यूएसडी द्वारा कंपनी के बिल पर कटौती है। पहले 60 एमएलडी पानी सप्लाई के लिए कंपनी काे 5.50 कराेड़ रुपए भुगतान किया जाता था।

अब डीडब्ल्यूएसडी 2019 की रीक्विजिशन के आधार पर 45 एमएलडी पानी के लिए 3.25 कराेड़ भुगतान कर रहा है। लिहाजा कंपनी भी सप्ताहभर से 60 के बजाय 45 एमएलडी पानी ही धनबाद भेज रहा है। इस कारण डीडब्ल्यूएसडी ने पानी की राशनिंग शुरू कर दी है। शहर की 19 जलमीनाराें में 20 से 25 मिनट के लिए ही पानी छाेड़ा जा रहा है। एेसे में जलमीनार से जुड़े दूरदराज या ऊंचे इलाकाें में रहने वाले लाेगाें काे घराें तक पानी पहुंच नहीं पा रहा है। एक सप्ताह से यही स्थिति जारी है। राशनिंग का सबसे ज्यादा असर मटकुरिया, पुराना बाजार, विनाेद नगर, बरमसिया, भूदा, मनईटांड़, स्टीलगेट, सहयाेगी नगर, सुगियाडीह आदि इलाकों पर पड़ रहा है।

डीडब्ल्यूएसडी के अफसरों की गलत प्लानिंग से लोगों के हलक से दूर हुआ पानी

जानिए, आखिर पानी की क्याें शुरू हुई राशनिंग

45 एमएलडी पानी के आधार पर अब भुगतान
2019 में डीडब्ल्यूएसडी ने पेयजल सप्लाई के लिए 45 एमएलडी का रिक्विजिशन तैयार किया था। उस समय मैथन इंटेकवेल के माेटर की क्षमता 45 एमएलडी की थी। 2020 में मोटर बदलने से क्षमता बढ़ी तो 60 एमएलडी पानी मिलने लगा। फरवरी 2021 में बहाल हुई नई कंपनी ने भी पांच माह तक 60 एमएलडी पानी सप्लाई की। जब बिल भेजा गया तो मुख्यालय ने करार के तहत 45 एमएलडी पानी का ही भुगतान को तैयार हुआ।

ओवरफ्लाे सप्लाई बंद टंकी भरी तो पानी रुका

पानी की राशनिंग शुरू हाेने के बाद डीडब्ल्यूएसडी ने शहर की सभी जलमीनाराें से ओवरफ्लाे सप्लाई बंद कर दी है। जलमीनार की जितनी क्षमता है, उसी अनुसार पानी छाेड़ा जा रहा है।

2 वजहें... जिस कारण भी शहर में पानी की किल्लत

मैथन से लेकर गाेविंदपुर तक 25% पानी की चाेरी

मैथन से लेकर गाेविंदपुर तक जगह-जगह लीकेज कर 25 प्रतिशत पानी की चोरी हाे रही है। लिहाजा धनबाद तक समुचित मात्रा में पानी नहीं पहुंच पाता है।

30 हजार लीगल और 1 लाख अवैध कनेक्शन

निगम के अनुसार 30 हजार वाटर कनेक्शन दिया है, जबकि डीडब्ल्यूएसडी कहता है कि निगम क्षेत्र में लगभग डेढ़ लाख लोगों के घर तक पानी पहुंचता है।

जिन इलाकों में पानी नहीं, वहां की स्थिति त्राहिमाम

केस स्टडी-1
मटकुरिया संजय नगर के रमेश सिंह बताते हैं कि जलमीनार से दूरी के कारण घर तक पानी नहीं पहुंच रहा है।

केस स्टडी-2
सहयाेगीनगर केे विक्रम कुमार ने बताया कि एक सप्ताह से इलाके में जलापूर्ति का एक बूंद पानी नहीं मिला।​​​​​​​

केस स्टडी-3
पुराना पुराना के साकेत अग्रवाल ने बताया कि जलमीनार से घर दूर है। 5-7 मिनट ही पानी मिल रहा है।​​​​​​​

क्या कहते हैं जिम्मेदार

जल्द सुधरेगी स्थिति : ईई

डीडब्ल्यूएसडी के कार्यपालक अभियंता मनीष कुमार ने कहा कि कम पानी सप्लाई की जानकारी वरीय अधिकारियाें काे दी गई है। जल्द निदान निकाला जाएगा।​​​​​​​

पानी देने को तैयार: अभय

राॅ वाटर सप्लाई कर रही कंपनी के अभय सिन्हा ने बताया कि पेयजल विभाग जितना पानी मांगेगा, उतना ट्रीटमेंट प्लांट तक भेजा जाएगा।​​​​​​​

बेमियादी धरना देंगे : राज

विधायक राज सिन्हा ने कहा कि पेयजल की समस्या से डीसी को अवगत कराया है। जलापूर्ति नहीं सुधरी ताे डीडब्ल्यूएसडी कार्यालय के बाहर बेमियादी धरना देंगे।

खबरें और भी हैं...