पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बर्बाद:राइजिंग पाइप में लीकेज के कारण हर दिन लाखों गैलन पानी हाे रहा बर्बाद, सीएम से की शिकायत

निरसा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मैथन-धनबाद मेगा जलापूर्ति योजना में मेंटनेंस के नाम पर हाे रहा पैसों का दोहन, सीएम से की शिकायत

राकांपा युवा मोर्चा के प्रदेश प्रधान महासचिव उमेश गोस्वामी ने मंगलवार को मैथन-धनबाद मेगा जलापूर्ति योजना के राइजिंग पाइप के मेंटेनेंस में लगी कंपनी की लापरवाही के कारण सरकारी पैसों का दोहन के साथ-साथ पानी की बर्बादी को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से इसकी शिकायत की है।

साथ ही पाइप लाइन के मेंटेनेंस में लगी कंपनी द्वारा बगैर मेंटेनेंस के पैसे के दोहन एवं कर्मियों का हो रहे शोषण से भी अवगत करवाया है। इस संबंध में उमेश गोस्वामी ने कहा कि, मैथन- धनबाद मेगा जलापूर्ति योजना का मेंटेनेंस कार्य चेन्नई के वाटेक लिमिटेड कंपनी को दिया गया है।

उपरोक्त कंपनी मेंटेनेंस के नाम पर प्रत्येक महीना पीएचडी विभाग से लाखों रुपए का पेमेंट लेता है। परंतु कंपनी द्वारा सही रूप से मेंटेनेंस काम नहीं किया जा रहा है। राइजिंग पाइप में लीकेज के कारण धनबाद वासियों के लिए बने 17 जलमीनारों से पानी की आपूर्ति सही तरीके से नहीं हो पा रही है। मैथन से लेकर धनबाद के भेलाटांड़ तक पहुंचे राइजिंग पाइप के बीच दर्जनों लीकेज है। इससे प्रत्येक दिन हजारों गैलन पानी बर्बाद हो रहा है।

फिल्टर प्लांट में नहीं हाेता ब्लीचिंग का छिड़काव
धनबाद के भेलाटांड़ में बने फिल्टर प्लांट में न तो ब्लीचिंग और न ही यह लम की व्यवस्था करवाई जा रही है। फिल्टर प्लांट काफी गंदा हो चुका है। इसके बावजूद मेंटेनेंस में लगी कंपनी अपनी जिम्मेदारियों को भूला सिर्फ सरकारी पैसे का दोहन कर रही है।

विगत चार से पांच वर्षों से कार्यरत कर्मियों को उनके पीएफ का पैसा भी नहीं दिया जा रहा है। अगर मामले की जांच-पड़ताल की जाए तो विभाग के साथ सांठगांठ कर मेंटेनेंस कार्य में लगी कंपनी द्वारा पीएचइडी के लाखों रुपया बगैर मेंटेनेंस के गबन का मामला सामने आएगा।

खबरें और भी हैं...