पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आयोजन:नमोस्तु शाषण जयवंत हो, के नारों से गूंज उठी मोक्षभूमि

पारसनाथ11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जैन तीर्थनगरी मधुबन में श्रमनाचार्य 108 श्री विशुद्ध सागर जी महाराज का हुआ भव्य मंगल प्रवेश, श्रद्धालु जुटे

बुधवार की सुबह बिरनगड्डा से जैन तीर्थनगरी मधुबन में श्रमनाचार्य 108 श्री विशुद्ध सागर जी महाराज का भव्य मंगल प्रवेश धूमधाम से हुआ।आचार्य ससंघ के भव्य मंगल प्रवेश के मौके पर देश के विभिन्न प्रान्तों से सैकड़ों की संख्या में जैन श्रद्धालु शामिल हुए।मंगल प्रवेश से पूर्व मधुबन सकल जैन समाज द्वारा जगह जगह रंगोली बनाया गया था समाज के महिला पुरुष बच्चे द्वारा आचार्य महाराज की भव्य अगुआई की गई सभी घरों संस्थाओं के समीप महाराज श्री के पांव धुलाये गए आरती उतारी गई। मधुबन प्रवेश करते वक्त आचार्य महाराज मधुबन के सभी मंदिरों के दर्शन किए तत्पश्चात तेरा पंथी कोठी के प्रवचन सभागार में मंच पर विराजमान होकर भक्तों को अपना प्रवचन सुनाए। मधुबन स्थित दिगंबर जैन तेरा पंथी कोठी में आचार्य विशुद्ध सागर जी महाराज का भव्य मंगल चातुर्मास सम्पन्न होगा।

भक्ताें की भीड़ कहीं भारी न पड़ जाए

कोविड19 के नियमों को नजरअंदाज करना कहीं भक्तों को भारी न पड़ जाए। लिहाजा मधुबन के स्थानीय प्रशासन भी कोविड19 के खतरे से संस्थाओं को आगाह करते आ रही है अभी हाल ही में स्थानीय प्रशासन द्वारा सभी जैन संस्थाओं को एक नोटिस के माध्यम से सूचित करते हुए बताया है कि किसी भी तरह के धार्मिक आयोजन में जरूरत से ज्यादा भीड़ भाड़ होने नहीं देना है कोविड 19 के नियमानुसार ही कोई भी आगन्तुक को ठहरने का समुचित व्यवस्था देना है। किसी भी तरह की स्थिति परिस्थिति में प्रशासन को सूचना देना है।

आज हाेगा कलश स्थापना
23जुलाई को आचार्य संघ का मंगल चातुर्मास कलश स्थापना की विधिवत तैयारी पूरी कर ली गयी है। चार माह का पावन वर्षायोग में आचार्य विशुद्ध सागर जी महाराज ससंघ एक ही स्थान पर विराजमान रहकर जप तप व साधना में लीन रहेंगे। चार महीने के मंगल चातुर्मास के बीच कई बड़े धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे इस बीच आचार्य महाराज के देश विदेश से सैकड़ों की संख्या में भक्त का आना जाना लगा रहेगा। लेकिन इससे कोरोना संक्रमण बढ़ने का खतरा रहेगा।

खबरें और भी हैं...