पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विवाद:विचाराधीन कैदी राजकुमार का शव गांव लाते ही भड़के ग्रामीणों ने पुलिस से की नोकझोंक

पारसनाथ6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पुलिस के अनुसार एक लाख का इनामी नक्सली राजकुमार किस्कु उर्फ तूफान दा का मृत शरीर पैतृक गांव झरहा के चौक मंझीडीह पहुंचते ही परिजनों के चीत्कार से माहौल गमगीन हो गया। एम्बुलेंस द्वारा शव के पहुंचते ही परिजनों के विलाप से जहां माहौल गमगीन हाे गया, वहीं ग्रामीणों में आक्रोश भी देखने को मिला।

मौके पर स्थानीय विधायक सुदीव्य कुमार सोनू भी पहुंचे जिनसे मृतक के परिजनाें ने न्याय की गुहार लगाया। विधायक ने मृतक की पत्नी व बच्चे को न्याय दिलाने का हर सम्भव प्रयास का आश्वासन दिया। माैके पर शव को परिजन के हवाले करने आये पीरटांड़ थाना प्रभारी पवन कुमार सिंह सब इंस्पेक्टर मृत्युंजय सिंह को मृतक के परिजन के कोपभाजन का शिकार होना पड़ा। मृतक राज कुमार किस्कु के परिजनों की एक ही मांग थी, जो पुलिसकर्मी मेरे पति को जिंदा ले गए वे जिंदा ला कर मुझे सौपे।

मृतक के परिजन द्वारा पुलिसकर्मियों पर आरोप लगाया गया कि गिरफ्तारी के पश्चात पुलिस ने राज कुमार किस्कु के साथ बेरहमी से मारपीट की यही वजह है कि उसकी मौत हो गयी। बीमार होने के बाद परिजन को राजकुमार से मुलाकात क्यों नहीं करने दिया। स्वास्थ्य आदमी को चन्द दिनों के भीतर ऐसा कौन सा बीमारी हो गया, जिससे उसकी मौत हो गयी। बताते चलें कि 12 जुलाई को राजकुमार किस्कू जिसे पुलिस विभाग नक्सली तूफान बता रही है, उसे गिफ्तार कर जेल भेज दिया था। तबीयत बिगड़ने पर इलाज के दौरान रिम्स में मौत हो गई।

विधायक ने दिया न्यायिक जांच का भराेसा
मृतक राज कुमार किस्कू के पैतृक स्थान मंझीडीह पहुंचते ही विधायक पर ग्रामीण भड़क उठे, काफी समझाने के पश्चात ग्रामीणों का गुस्सा ठंडा हुआ। विधायक द्वारा ग्रामीणों समेत मृतक के परिजन को इस बात का भरोसा दिलाया गया कि दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री से बात हुई है, इसकी न्यायिक जांच की जाएगी। जिसके बाद परिजनों ने शव ले लिया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें