पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्रवाई:नियम विरुद्ध खुली दुकानों पर सिविल ड्रेस में पुलिस ने मारा छापा, दो दुकानें सील की

तिसरी22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलिस ने दो दुकानदारों को भी लिया हिरासत में, निर्देश के बाद भी खुली थी सैलून, जूते व कपड़े की दुकान

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सरकार द्वारा लागू किये गये गाइडलाइन का उल्लंघन करते हुए गैर जरूरी सामान के खोले गये दो दुकान को सीओ असीम वाड़ा और पुलिस इंस्पेक्टर परमेश्वर ल्यांगी की उपस्थिति में थाना प्रभारी पीकू प्रसाद ने दोनों दुकानदार को गिरफ्तार कर रविवार को दुकान सील कर दिया। सील दुकानों में तिसरी-चन्दौरी मुख्य सड़क स्थित अनिल वर्णवाल, तिसरी निवासी का किराना स्टोर, रेडिमेड दुकान और गांवां-गिरिडीह मुख्य सड़क तिसरी ब्लॉक के सामने स्थित अमेजिंग हेयर कटिंग चन्दौरी निवासी शंकर शर्मा का सैलून को सील किया गया। थाना प्रभारी पीकू प्रसाद ने बताया दोनों गिरफ्तार दुकानदार को बांड भरवा कर दो घंटे बाद छोड़ा गया। पुलिस इंस्पेक्टर परमेश्वर ल्यांगी ने बताया कि रेडीमेड दुकान बराबर खुलने की सूचना मिल रही थी।

पुलिस गाड़ी को देख दुकानदार ग्राहक को भी दुकान के भीतर बुलाकर दुकान का शटर गिरा देता था। दुकानदार को रंगेहाथ पकड़ने के लिए सिविल ड्रेस में आकर देखा तो दुकान में ग्राहक कपड़ा खरीदते पकड़ा गया। सीओ असीम वाडा ने बताया दोनों गिरफ्तार दुकानदार को सबक मिल गया है। बांड भरवा कर छोड़ा गया है। आगे भी गाइडलाइन का उल्लंघन करते पकड़े जाने पर सीधा जेल भेजा जाएगा। गाइडलाइन का विरोध कर दुकान संचालित करना अपराध की श्रेणी में आता है। वैसे व्यक्ति के विरुद्ध कानूनी-प्रक्रिया के तहत मुकदमा, जुर्माना और जेल तीनों हो सकता है। तिसरी प्रखण्ड के जो भी लोग सरकार के निर्देश का उल्लंघन करेंगे, सभी के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि लॉकडाउन के दौरान बीते 5 मई को भी तिसरी में तीन दुकान तिसरी चौक, भण्डारी रोड स्थित दिनेश यादव, गड़कुरा पंचायत के कटकोको निवासी का चप्पल दुकान , तिसरी चौक गांवां गिरिडीह मुख्य मार्ग स्थित चन्दौरी पंचायत नईटांड़ निवासी बाबूलाल साव का मनिहारी दुकान और राजकीय अस्पताल के समीप मुख्य मार्ग पर स्थित तिसरी निवासी मनोज बर्णवाल की चप्पल दुकान को भी गाइडलाइन का उल्लंघन करने के मामले में सील किया गया था। तीनों दुकान के गिरफ्तार संचालक को तीन घंटे तक थाना में रखने के उपरांत बांड भरवाकर अंतिम चेतावती देते हुए छोड़ दिया गया।

खबरें और भी हैं...