न्यूनतम पारा 15 डिग्री पर पहुंचा:अक्टूबर में अधिक बारिश का असर; मार्च तक रहेगी ठंड

गढ़वा22 दिन पहलेलेखक: मो एनाम खान
  • कॉपी लिंक

इस वर्ष मार्च माह तक ठंड पड़ेगी, जबकि पूर्व में फरवरी तक ही ठंड पड़ती थी। इस संबंध में कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक डॉ. अशोक कुमार ने कहा कि इस वर्ष मानसून पूर्व व मानसून के विदाई के समय अक्टूबर में अधिकतर जिलों में वर्षा सामान्य से अधिक हुई है। वातावरण में नमी के कारण अक्टूबर के द्वितीय पखवाड़ा से ही पारा सामान्य से नीचे रहा है। इस वर्ष जाड़े में तापमान सामान्य से थोड़ा अधिक रहने की संभावना जताई जा रही है। परंतु इस बार सर्दी के दिन ज्यादा रहेंगे।

सामान्यतः फरवरी तक सर्दी पड़ती है। अब पैटर्न बदला है। मार्च तक ठंड पड़ने की उम्मीद है। अक्टूबर से पश्चिमी विक्षोभ का सिलसिला शुरू हो गया। जो फरवरी तक चलेगा। सर्दियों का लिंक हवा की दिशा के परिवर्तन से होता है। मानसून में दक्षिण- पश्चिमी हवाएं चलती है। इनकी दिशा जब उत्तरी और उत्तरी- पूर्वी हो जाती है तो सर्दी का आगाज हो जाता है।

उत्तरी भारत के जम्मू कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल, उत्तराखंड क्षेत्रों में बारिश एवं बर्फबारी शुरू होने से भी मैदानी भागों में ठंडक आती है। जो शुरू हो चुकी है। मानसून के अंतिम दिनों में वर्षा का लाभ किसान भाई रबी फसलों की आगत बुआई करके ले सकते हैं। दलहन एवं तिलहन की बुआई अति शीघ्र संपन्न कर लेनी चाहिए। साथ ही खाली खेतों की जुताई कर गेहूं की आगत बुआई करें। ठंडा का मौसम लंबा होने से इस बार रबी फसलों विशेष रुप से गेहूं की उपज अधिक मिलने के आसार बढ़ गए हैं।

सुबह 10 बजे तक धुंध; गर्म कपड़े खरीदने में जुटे लोग

नवंबर का महीना शुरू होते हैं जिला मुख्यालय सहित विभिन्न क्षेत्रों में ठंड का एहसास होने लगा है। रविवार को अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है।कृषि विज्ञान केंद्र के अनुसार आने वाले दिनों में और अधिक तापमान में गिरावट होने की संभावना है। आज सोमवार को लोग सुबह में ठंड से बचने के लिए सुबह 7:00 बजे तक कूड़ा - कचरा जलाकर आग तापते देखे गए।

विदित हो कि अक्टूबर महीने के अंतिम तक गढ़वा जिला में ठंड का एहसास नही हो रही थी।लेकिन नवंबर का महीना प्रारंभ होते ही ठंड अपना जलवा दिखाना शुरू कर दिया है। सुबह व शाम लोग गर्म कपड़े का उपयोग करना शुरू कर दिए है। इधर ठंड के दस्तक देने के साथ ही गर्म कपड़ों का बाजार भी गर्म हो होने लगा है। लोग अपने जरूरत के अनुसार गर्म कपड़ों की खरीदारी करना शुरू कर दिए हैं।

दूषित और बासी चीजों से परहेज करें
शहर के उचरी रोड स्थित मैक्स हॉस्पिटल के डॉक्टर महबूब आलम ने कहा कि मौसम के बदलाव को देखते हुए लोगों को अपनी दिनचर्या को मौसम के साथ तालमेल बैठा कर चलना होगा। खान-पान में परहेज जरूरी है। लोग ठंड से बचने के लिए गर्म कपड़े का प्रयोग करें। इसके साथ ही बीमारी से बचने के लिए दूषित व बासी चीजों के सेवन से परहेज करें। ताजा पानी पिए और ताजा भोजन करें। अपने आसपास गंदगी व जलजमाव ना होने दें।

तीन दिनों तक मौसम शुष्क रहेगा
ग्रामीण कृषि मौसम सेवा के रिपोर्ट के अनुसार अगले तीन दिनों तक मौसम साफ व शुष्क रहेगा। साथ ही साथ न्यूनतम तापमान में धीरे-धीरे कमी होगी। जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि सात नवंबर को अधिकतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस रहेगा। जबकि आठ व नौ नवंबर को अधिकतम तापमान 33 व न्यूनतम तापमान 17 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...