भास्कर खास:गढ़वा जिले में पिछले 12 महीनों में 5544 महिलाओं ने कराया बंध्याकरण, मात्र 22 पुरुषों ने कराई नसबंदी

गढ़वाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जनसंख्या नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से नसबंदी और अन्य परिवार नियोजन के उपायों को अपनाने के लिए प्रेरित किया जाता है। जागरूकता कार्यक्रमों के बाद भी नसबंदी के आंकड़ों में इजाफा नहीं हो पा रहा है। पिछले 2021 से 2022 तक जहां 5544 महिलाओं ने नसबंदी कराई है।

वहीं केवल 22 पुरुष ही इसके लिए आगे आया है। ऐसे में पुरुष नसबंदी अब भी स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती बनी है। पिछले 2021 से जनसंख्या नियंत्रण पखवारे के तहत अब शहरी और ग्रामीण इलाकों में लोगों को इसके लिए प्रेरित किया जा रहा है।

कोरोना का नसबंदी सहित कई सरकारी कार्यक्रमों पर पड़ा था असर, नए सिरे से लाई जाएगी जागरूकता

पिछले वर्ष कोरोना संक्रमण की वजह से नसबंदी सहित जनसंख्या नियंत्रण के लिए जाने वाले कार्यक्रमों, निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने में थोड़ा संकट आया है लेकिन स्वास्थ्य विभाग अब जब कोरोना का संक्रमण कम हो रहा है। तो नए सिरे से जागरूकता में लगा है।

सिविल सर्जन डॉ कमलेश कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से लगातार जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। बावजूद पुरुष नसबंदी कराने से कई बहाने बाजी करते हैं। जबकि सरकार के द्वारा पुरुष नसबंदी के दौरान मिलने वाली प्रोत्साहित राशि महिला के अपेक्षा ज्यादा है।

नसबंदी कराने पर मिलती है प्रोत्साहन राशि
पुरुष नसबंदी पर लाभार्थी को 3000 और लाने वाले को 400 रुपए प्रोत्साहन राशि महिला नसबंदी (अंतराल) पर लाभार्थी को 2000 रुपए और लाने वाले को 300 रुपये प्रोत्साहन राशि इसके अलावा बच्चों के बीच अंतराल रखने पर नियमानुसार परामर्श के बाद उपयोग करने पर भी प्रोत्साहन राशि दी जाती है।

जिले के प्रखंडों के लक्ष्य

अस्पताल नसबंदी बंध्याकरण भंडारिया 0 265 रंका 2 629 गढ़वा सदर 4 855 मझिआंव 10 748 मेराल 4 748 बंशीधर नगर 2 941 भवनाथपुर 0 990 धुरकी 0 368 कुल 22 5544

खबरें और भी हैं...