10 मिनट की आंधी से तीन जीवन समाप्त:सौ से अधिक घर क्षतिग्रस्त, कई मवेशी मरे, सड़कों पर गिरे पेंड़, आवागमन अवरुद्ध

गढ़वाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महुलिया में इसी बांस के पेड़ के नीचे दबे कई लोग, तीन की मौत। - Dainik Bhaskar
महुलिया में इसी बांस के पेड़ के नीचे दबे कई लोग, तीन की मौत।
  • गड्‌ढे में मछली मारने गए थे, आंधी से बचने को बांस का लिया सहारा, 3 सौ बांस का समूह जड़ समेत गिरा, दबकर ईंट भट्‌ठे के तीन मजदूर की मौत

प्रखंड के विभिन्न गांव में आई 10 मिनट की तेज आंधी ने जहां तीन जीवन समाप्त कर दिया। वहीं एक सौ से अधिक घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इसके अलावे कई पशुओं की मौत हो गई है। जबकि सड़कों पर पेड़ गिरने के कारण कई रास्तों का आवागमन अवरुद्ध हो गया। तेज आंधी के कारण करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है।

तेज आंधी आने की वजह से गढ़वा प्रखंड के बरवाही गांव में जहां बांस का पेड़ पलटने से तीन व्यक्ति मौत हो गई। वहीं गढ़वा प्रखण्ड के विभिन्न गांवों में आंधी के कारण एक सौ से अधिक घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इसके अलावे कई पशुओं की मौत हो गई है। जबकि सड़कों पर पेड़ गिरने के कारण कई रास्तों का आवागमन अवरुद्ध हो गया।

तेज आंधी के कारण गढ़वा प्रखण्ड का बरवाही गांव सहित कल्याणपुर, जुटी, जाटा, करमडीह सहित अन्य गांवों कर लोगों को काफी क्षति हुई है। तेज आंधी के कारण जिन लोगों को क्षति हुई है। उसमें गढ़वा प्रखंड के कल्याणपुर निवासी सुजायत अंसारी, शरफुल्लाह अंसारी, इकरार अंसारी, मोहम्मद हुसैन अंसारी, जमीरुल्लाह अंसारी, मेराजुद्दीन खान, जन्नत हुसैन अंसारी, जाकिर हुसैन अंसारी, ऐनुल अंसारी, जन्नत अंसारी, मुख्तार अंसारी, गुलाब अंसारी, नसीरूद्दीन अंसारी, लाल मोहम्मद खां, फेंकू अंसारी, शुकरुद्दीन अंसारी, गयासुद्दीन अंसारी, कमलेश चंद्रवंशी, सलीम अंसारी, अजीम अंसारी, जुटी गांव के अवधेश कुमार कुशवाहा, राजेश्वर प्रसाद कुशवाहा, प्रमोद कुमार मेहता, अजय साव, कृष्णा प्रसाद कुशवाहा, शमीम अंसारी, इसहाक अंसारी, बलकेश्वर सिंह कुशवाहा, वीरेंद्र प्रसाद कुशवाहा, कमलेश कुमार कुशवाहा सहित अन्य लोगों के नाम शामिल है।

पीड़ित लोगों ने बताया कि करीब एक से डेढ़ बजे के बीच उनके गांव में तेज आंधी आई थी। तेज आंधी के कारण कई घरों का सीटा उड़ गया। वहीं कई घरों के दीवार गिर गए। जबकि कई घरों के छत भी गिर गए हैं। उन्होंने कहा कि तेज आंधी के कारण कई मवेशी की मौत भी हो गई है। जबकि पेड़ गिरने से कई रास्तों का आवागमन अवरुद्ध भी हो गया है।

पीड़ित लोगों ने कहा कि गढ़वा प्रखण्ड की यह पहली घटना है। जहां तेज आंधी के कारण काफी क्षति हुई है। पीड़ित लोगों ने कहा कि आंधी के कारण घरों को क्षतिग्रस्त होने से लोग काफी परेशान है। लोग इस सोच में हैं कि अब वे लोग कहां रहेंगे।

महुलिया में घटनास्थल पर जुटे लोग।
महुलिया में घटनास्थल पर जुटे लोग।

महुलिया गांव के बरवाही टोला में बड़ा हादसा... एक ही परिवार के थे तीनों सदस्य, दो चचेरे भाई और एक रिश्तेदार

कल्याणपुर में खेल रहा 14 वर्षीय बच्चा आंधी में उड़ा, हो रहा इलाज
गढ़वा प्रखंड के कल्याणपुर गांव के मस्जिद टोला निवासी इम्तेयाज अंसारी का 14 वर्षीय पुत्र इरशाद अंसारी तेज आंधी के कारण घायल हो गया। घटना के संबंध में इरशाद अंसारी ने कहा कि वह अपने दोस्त के साथ गांव के ही बेलही डैम के पास खेल रहा था।

इसी बीच तेज आंधी आ गई। तेज आंधी के कारण वह चार-पांच पलटनिया खा गया। जिससे उसका पैर भी फ्रैक्चर हो गया है। जबकि शरीर के कई हिस्सों में चोट लगी है। उन्होंने कहा कि तेज आंधी के कारण सभी उसके दोस्त चोटिल हुए हैं, लेकिन सबसे अधिक नुकसान उसे ही हुआ है। उसका इलाज गढ़वा सदर अस्पताल में किया जा रहा है।

बांस से दबे तीनों शव को एक घंटे की कोशिश के बाद जेसीबी से निकाला गया बाहर, गांव शोक की लहर

जेसीबी से शव निकालते लोग।
जेसीबी से शव निकालते लोग।

रविवार की दोपहर दस मिनट की आंधी-तूफान व हल्की बारिश से जिले में करोड़ों का नुकसान हुआ। जान-माल की क्षति हुई है। सैकड़ों पेड़ व बिजली के खंभे-तार टूट कर गिर गए। वहीं गरीबों के झोपड़ी उजड़ गए। इसी बीच दर्दनाक हादसा सदर प्रखंड के महुलिया गांव के बरवाही टोला में घटी। घटना दोपहर करीब डेढ़ बजे की है।

जहां घर से कुछ ही दूरी पर स्थित खखनु बांध के निकट एक गड्ढे में मछली मारने गए एक ही परिवार के (मृतकों में दो चचेरा भाई व एक रिश्तेदार) तीन ग्रामीणों की मौत हो गई। ग्रामीण आंधी-तूफान से बचने के लिए बांस के विशाल (करीब दो-ढ़ाई सौ पीस बांस लगा हुआ) पेड़ के नीचे छिपे हुए थे। आंधी के दौरान अचानक बांस का पेड़ जड़ सहित पलट गया।

जिससे दबने से तीनों ग्रामीणों की मौके पर ही मौत हो गई। मरने वालों में राजेंद्र भुइयां (55 वर्ष), उनका चचेरा भाई मनीजर भुईंया (46 वर्ष), इनका ममेरा भाई फेकन भुईंया (57 वर्ष) शामिल हैं। तीनों ईंट भट्ठा में मजदूरी कर परिवार का भरण-पोषण करते थे। घटना की सूचना पाकर मौके पर सबसे पहले पहुंचे सदर थाना के इंस्पेक्टर कृष्ण कुमार, एएसआई अभिमन्यु सिंह ग्रामीणों की शव को निकालने में जुट गए। ग्रामीणों ने भी काफी सहयोग किया।

बाद में एसडीपीओ अवध कुमार यादव, सीओ मयंक भूषण व बीडीओ कुमुद झा भी पहुंचे। पदाधिकारियों ने जेसीबी के सहारे विशाल बांस के पेड़ के नीचे दबे ग्रामीणों की शव को करीब एक घंटे कड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकलवा कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजवाया।

इस दौरान मृतकों के परिजनों का रो-रो कर बूरा हाल था। गांव में अचानक मातम छा गया। मृतक ईंट भट्‌ठा में मजदूरी करते थे। तीन-चार दिन पहले ही वे लोग गांव में शादी विवाह को लेकर वापस गांव लौटे थे।

खबरें और भी हैं...