• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Garhwa
  • Rage Among Businessmen Due To The Working Style Of Drug Inspector, Warning Of Agitation, Demand For Transfer And Investigation Of Property

हड़ताल से जिले की 500 दवा दुकानें रहेंगी बंद:ड्रग इंस्पेक्टर की कार्यशैली से व्यवसायियों में राेष, आंदोलन की चेतावनी, स्थानांतरण और संपत्ति की जांच की मांग

गढ़वा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गढ़वा, पत्रकार वार्ता करते एसोसिएशन के लोग । - Dainik Bhaskar
गढ़वा, पत्रकार वार्ता करते एसोसिएशन के लोग ।

जिले में दवा व्यवसायी ड्रग इंस्पेक्टर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। ड्रग इंस्पेक्टर के कार्य प्रणाली में सुधार नहीं होने की स्थिति में केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के लोग एक सप्ताह के अंदर पहले जिला स्तर पर एक दिनी सांकेतिक बंदी करेंगे। इसके बाद राज्य स्तर पर अनिश्चितकालीन दुकानें बंद रखेंगे। एसोसिएशन के लोगों ने ड्रग इंस्पेक्टर अमरेश कुमार पर दवा व्यवसायियों का भयादोहन करने सहित कई गंभीर आरोप भी लगाए हैं। जिले में करीब पांच सौ दवा व्यवसायी हैं। एसोसिएशन के लोग उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिए हैं।

जिसे अंजाम तक पहुंचाने की भी संकल्प लिया गया है। केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन की मांगों में ड्रग इंस्पेक्टर अमरेश कुमार का जिले से स्थानांतरण करते हुए नया ड्रग इंस्पेक्टर को प्रभार देने, जिले के पीडितों से बयान लेकर उनकी भरपाई करने, ड्रग इंस्पेक्टर की सात वर्ष की नौकरी में अर्जित किए गए चल व अंचल संपत्ति की जांच सीबीआई से कराने जैसी मांगें शामिल है।

डीसी के जांच के निर्देश का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं ड्रग इंस्पेक्टर

उन्होंने ड्रग इंस्पेक्टर पर आरोप लगाया कि वे महंगी महंगी दवाइयां भारी मात्रा में उठाकर ले जाकर दूसरे जिलों में बेचने का कार्य कर रहे हैं। अध्यक्ष ने कहा कि इस तरह वे जांच के नाम पर दवा व्यवसायियों मोटी रकम फिक्स कराना चाहते हैं। लेकिन एसोसिएशन के लोग चुप नहीं बैठेंगे। दवा व्यवसायी कोई भी गलत या दो नंबर का कार्य नहीं करते हैं। नियमानुसार की व्यवसाय चला रहे हैं।

अध्यक्ष ने कहा- पैसों की उगाही के लिए ड्रग इंस्पेक्टर कर रहे भयादोहन

जिला केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष आदया शंकर पांडेय ने कहा कि ड्रग इंस्पेक्टर दवा व्यवसायियों से पैसों की उगाही करने के लिए भिन्न-भिन्न प्रकार के हथकंडा अपनाकर भयादोहर कर रहे हैं। । रविवार को वे शहर के मेन रोड स्थित जवाहर भोजनालय के सभागार में पत्रकार वार्ता में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि जिले के दवा व्यवसायी करीब पांच वर्षों से दवा का व्यवसाय कर रहे हैं। मगर ऐसा कभी नहीं हुआ था जब किसी ड्रग इंस्पेक्टर द्वारा इस तरह का प्रताड़ित किया गया हो। ड्रग इंस्पेक्टर द्वारा लाईसेंस बनवाने, नवीनीकरण कराने सहित अन्य कार्य के लिए परेशान किया जा रहा है।

ड्रग इंस्पेक्टर अमरेश ने आरोप को बताया बेबुनियाद

ड्रग इंस्पेक्टर अमरेश कुमार सिंह ने आरोप को बेबुनियाद एवं गलत बनाते हुए कहा कि वे सरकारी प्रावधान के गहत दवा दुकानों की जांच करते हैं । जांच नहीं करेंगे तो बाजार में नकली दवा आ जाएगी। इससे आम आदमी को ही नुकसान होगा। डॉक्टर दवा लिखेंगे लेकिन वह काम नहीं करेगा।

खबरें और भी हैं...