ग्रामीण बोले तक सांसद व पंचायत प्रतिनिधियों ने ठगा:सड़क खराब, ग्रामीणों ने वोट बहिष्कार की दी चेतावनी

गढ़वा2 महीने पहलेलेखक: सियाराम शरण वर्मा
  • कॉपी लिंक
गांव में सड़क की जर्जर स्थिति। - Dainik Bhaskar
गांव में सड़क की जर्जर स्थिति।

प्रखंड के ढोटी गांव के ग्रामीणों ने सड़क की समस्या से आक्रोशित होकर अगले चुनाव में वोट बहिष्कार की घोषणा कर दी है। आज गांव में लोगों ने प्रदर्शन करते हुए कहा कि पिछले करीब 40 वर्षों से वे लोग आश्वासन के भरोसे रह रहे हैं। इस गांव की करीब 1200 की आबादी प्रति दिन दुर्घटनाओं के बीच जी रहा है। अब तक जितने भी विधायक, सांसद या पंचायत प्रतिनिधि हुए सभी ने गांव की सड़क की स्थिति सुधारने का आश्वासन दिया। लेकिन चुनाव जीतने के बाद सभी लोग भूल गए कि इस गांव के ग्रामीणों से भी उन्होंने कोई वादा किया था।

गढ़वा मुख्यालय से महज 4 किमी दूरी पर स्थित है गांव, 12 सौ लोगों की आबादी, न सड़क है, न नाली

ग्रामीणों ने कहा कि शहर के काफी करीब होने के बाद भी लोग इस गांव में आने से परहेज करते हैं। इसका सबसे बड़ा कारण यहां की जर्जर सड़क है। सड़क के साथ ही यहां नाली नहीं होने से घरों का पानी भी सड़क पर बहता है। जिससे वाहनों की तो छोड़ दिया जाए, पैदल भी चलना मुश्किल हो जाता है। ग्रामीण अपनी समस्या को लेकर पूर्व के विधायकों के अलावा वर्तमान विधायक व राज्य के पेयजल स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर से भी गुहार लगा चुके हैं। इतना ही नहीं पंचायत के मुखिया से भी सड़क निर्माण की मांग कर चुके हैं। ग्रामीणों ने कहा कि यदि गांव की सड़क व नाली की समस्या से यथाशीघ्र निजात नहीं दिलाया जाता है, तो वे लोग वोट का बहिष्कार करेंगे।

ग्रामीण विजय यादव ने कहा कि शहर के करीब होने के बावजूद भी उन लोगों की स्थिति सुदूर क्षेत्र के गांव से भी बदतर है। रिश्तेदार सड़क व नाली की समस्या के कारण गांव में आने से परहेज करते हैं। गांव की सड़क पर जगह-जगह बड़े-बड़े गड्ढे बने हुए है। जिसमें गंदा पानी भरा हुआ है। ग्रामीण गुलाब यादव ने कहा कि कई प्रशासनिक अधिकारी विभिन्न कार्यों से कई बार गांव में आए हैं। वे लोग अब तक इस उम्मीद में थे कि कोई तो उनकी समस्या को देखेगा, सुनेगा और समाधान करेगा।

लेकिन जब उम्मीद टूट गई तो उन लोगों ने लोकतंत्र के महापर्व वोट के बहिष्कार का निर्णय लिया है। ग्रामीण अली बक्श ने कहा कि 40 वर्ष तक इस गांव के लोग स्थिति सुधरने का इंतजार करते रहे। लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ। अब सड़क नहीं तो वोट नहीं का संकल्प सभी ग्रामीण लेते हैं। इस संबंध में जाटा पंचायत के मुखिया उदय मेहता ने कहा कि मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत इस सड़क की स्वीकृति हो गई है।

खबरें और भी हैं...