60 लाख की लागत से बना था भवन:अटका आदिवासी छात्रावास के भवन बन जाने के बाद भी लटके हुए हैं ताले, छात्राएं परेशान

बगोदर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आदिवासी छात्रावास भवन अटका। - Dainik Bhaskar
आदिवासी छात्रावास भवन अटका।

बगोदर के अटका में 15 साल पूर्व निर्मित आदिवासी छात्रावास मृत्यु शैया पर है। तकरीबन 60 लाख की लागत से 25 कमरों वाला दो मंजिला भवन का निर्माण बतौर छात्रावास हुआ था। भवन निर्माण के बाद से अब तक छात्रावास के रूप में इसका इस्तेमाल नहीं हुआ। निर्माण काल से लेकर अब तक भवन के मुख्य दरवाजे पर ताले लटके पड़े हैं। विधिवत उद्घाटन भी इस छात्रावास का नहीं हो पाया। भवन, अब जर्जरता की भेंट चढ़ गयी है।

आदिवासी छात्रावास अटका स्थित उच्च विद्यालय कैंपस में बनाया गया है। छात्रावास के आसपास निर्माण से संबंधित किसी तरह के शिलापट्ट नहीं लगे हैं। लिहाजा इसकी लागत राशि क्या है, किस मद से इसका निर्माण हुआ है और किस वित्तीय वर्ष में यह योजना अटका की सरजमीं पर उतरी थी। इन सारे सवालों का सही जवाब किसी के पास नहीं है। कुल मिलाकर अटका का दो मंजिला आदिवासी छात्रावास सरकारी संसाधनों के दुरुपयोग की व्यथा कथा बयां करता प्रतीत हो रहा है।

प्रखंड मुख्यालय से 12 किमी. है दूर
बगोदर प्रखंड मुख्यालय से तकरीबन 12 किलोमीटर की दूरी पर अटका स्थित है। उच्च विद्यालय यहां संचालित है। उच्च विद्यालय कैंपस में आदिवासी छात्रावास का निर्माण हुआ था। लिहाजा यह कयास लगाया जा रहा है कि विद्यालय में पढ़ने वाले आसपास के आदिवासी छात्रों को रहने की सुविधा प्रदान करने की गरज से इसका निर्माण कार्य हुआ। लेकिन विडंबना यह है कि जिस उद्देश्य से इतनी भारी-भरकम लागत से दो मंजिला भवन का निर्माण हुआ उसका उद्देश्य पूरा नहीं हो सका। बताया जाता है कि वित्तीय वर्ष 2006-07 में छात्रावास भवन निर्माण योजना सरजमीं पर उतरी थी।

क्या कहते हैं मुखिया पति सह प्रतिनिधि
अटका पश्चिमी पंचायत के मुखिया पति सह प्रतिनिधि जीबाधन मंडल ने कहा कि बंद पड़े आदिवासी छात्रावास के इस्तेमाल को लेकर शीघ्र पहल किया जाएगा। मुखिया पति सह प्रतिनिधि के अनुसार वित्तीय वर्ष 2006-07 में आदिवासी छात्रावास का निर्माण करीब 70 लाख की लागत से हुई थी। लेकिन भवन निर्माण के बाद इसका इस्तेमाल छात्रावास के रूप में नहीं हो पाया है।

खबरें और भी हैं...