भारतीय जनता पार्टी के बैनर तले जन आक्रोश रैली निकाली:महिलाओं के साथ अत्याचार, न्याय नहीं मिल रहा : सांसद

लोहरदगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आक्रोश रैली को संबोधित करते लोकसभा सांसद सुदर्शन भगत। - Dainik Bhaskar
आक्रोश रैली को संबोधित करते लोकसभा सांसद सुदर्शन भगत।

जिला स्तर पर बुधवार को भारतीय जनता पार्टी के बैनर तले जन आक्रोश रैली निकाली गई। जिसके माध्यम से झारखंड के हेमंत सोरेन सरकार की जन विरोधी नीतियों एवं पूरे राज्य में व्याप्त, भय, भ्रष्टाचार, तुष्टीकरण की राजनीति, हत्या, अनाचार, झूठ और लूट के विरोध में जिला स्तरीय आक्रोश प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन का नेतृत्व पार्टी जिलाध्यक्ष मनीर उरांव ने की।

आक्रोश रैली ब्लॉक मोड़ से प्रारंभ होकर समाहरणालय तक पहुंची। प्रदर्शन में मुख्य रूप से भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद समीर उरांव, लोकसभा सांसद सुदर्शन भगत, पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अभयकांत व प्रदेश कार्यसमिति सदस्य ओमप्रकाश सिंह उपस्थित रहे। सुदर्शन भगत ने कहा कि वर्तमान सत्ता के नशे में डूबे हुए लोग जनता की आवाज को दबाने व अपने लोगों के माध्यम से खुले मंच से विपक्ष को धमकाने का कार्य कर रही है।

इनकी इसी तुष्टिकरण की नीति व विशेष वर्ग के प्रति झुकाव राज्य में हत्या, शोषण, यौनशोषण, युवा ,युवतियों ,जनजाति, अनुसूचित जाति लोगों हत्या घटनाओं की संख्या देश भर में अन्य प्रदेशों से अधिक है। एक दिन पूर्व ही खखपरता से मिली महिला का शव जिसमें यौन शोषण की अाशंका और तेजाब डालने की बात सामने आ रही है, यह भी बड़ी उदाहरण है। पूरे क्षेत्र में महिलाओं के साथ यौनाचार और हत्या व्याप्त है। पर न्याय नहीं मिल रहा। घटना के बाद औपचारिकता दिखाई पड़ता है। जो बर्दाश्त काबिल नहीं है। अभयकांत प्रसाद ने कहा कि सरकार के बहाने अब ज्यादा दिन नहीं चल सकता। इन्होंने केवल राज्य में गुमराह की नीति बनाई है।

इनकी पाप की गठरी अब खुल गई है। परिणाम भुगतने ही होंगे। मनीर उरांव ने कहा कि जनता को जल जंगल जमीन सुरक्षित करने की बात राज्य सरकार ने कही थी पर आज हमारी जमीन खनन को सबसे पहले स्वयं सरकार में बैठे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सहित मंत्रीमंडल के लोग लूटने लगे हैं। प्रदर्शन को भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य ओमप्रकाश सिंह, पूर्व माटी कला बोर्ड अध्यक्ष श्रीचंद प्रजापति, प्रदेश महामंत्री बिंदेश्वर उरांव मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...