जेल में लगी अदालत में एक बंदी रिहा:जिला विधिक सेवा प्राधिकार ने डायन प्रथा पर रोक लगाने का किया आह्वान

गुमला6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मंच पर अधिकारी। - Dainik Bhaskar
मंच पर अधिकारी।

झालसा के निर्देशानुसार तथा जिला और सत्र न्यायाधीश सह अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकार गुमला के मार्गदर्शन में जेल अदालत सह विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन मंडल कारा गुमला में किया गया। जिसमें एक बंदी को दोष स्वीकार करने पर मुकदमे का निष्पादन करते हुए उसे रिहा किया गया। जागरूकता शिविर में एसीजीएम मनोरंजन कुमार ने कहा कि ऐसे बंदी जो गरीबी के कारण अपने मुकदमे में वकील नहीं रख पा रहे हैं, वे डालसा के द्वारा निशुल्क विधिक सहायता प्राप्त कर सकते हैं।

डायन कुप्रथा पर भी जोर देते हुए कहा कि यह अंधविश्वास है, जो समाज को आगे बढ़ने से रोकती है। अतः इस कुप्रथा को हमें जड़ से समाप्त करना होगा। सुनील कुमार जेल अधीक्षक ने डालसा के कार्य क्षेत्र में प्रकाश डाला तथा डायन कुप्रथा को समाप्त करने पर विशेष जोर दिया। शिविर में मुख्य रूप से अधिवक्ता जितेंद्र कुमार, सुधीर पांडे, मदन मोहन मिश्रा, रामनारायण, बिंदेश्वर गोप, डीएलएसए के प्रकाश कुमार, मनीष, भागीरथ आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...