अनाज की कालाबाजारी:अनाज की जगह तराजू पर ईंट व पत्थर रखकर पर्ची निकाल रहे हैं डीलर... लाभुक को देते हैं कम चावल

चौपारण2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड सहित पूरे क्षेत्र के पीडीएस दुकानों में अनाज की कालाबाजारी रोकने के लिए सरकार द्वारा लाई गई नई तकनीक को डीलर्स अनूठे तरीके से जवाब दे रहे हैं। नेटवर्क नहीं पकड़ने की दुहाई देकर ई-पास मशीन से पर्ची निकालने के लिए अनाज की बजाय ईंट-पत्थर का इस्तेमाल कर रहे हैं। पर्ची निकालने के बाद में कार्डधारी को जानबूझकर कम अनाज दिया जा रहा है।

ऐसा ही एक बडा मामला रविवार को एक जागरुक कार्डधारी ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर साझा कर दिया। इसमें स्पष्ट रूप से अनाज की बजाय डीलर ईंट और पत्थर का इस्तेमाल करते नजर आ रहे हैं। यह मामला डेबो पंचायत से सामने आया जहां के डीलर द्वारा कार्डधारियों को गांव से चार किमी दूर भटबिगहा कारीपहरी स्थित अपने निजी दुकान पर बुलाकर केवल पर्ची निकालने का काम खुलेआम कर रहा था।

डीलर द्वारा पर्ची निकालने के बाद अनाज वितरण की बात कर यह कारनामा कर रहा था। इधर ग्रामीण बाद में कम अनाज मिलने की शिकायत करते नजर आए। पूरा मामला आज सोशल मीडिया पर छाया रहा तथा जमकर जविप्र की इस कमी पर टिप्पणियां की गई। ग्रामीणों ने पूरे मामले की जांच और डीलर पर कार्रवाई की मांग की है।

लोगों को अनाज देने की उपायुक्त से शिकायत

पिछले सप्ताह ही प्रखंड प्रमुख पूर्णिमा देवी और भाजपा जिला महामंत्री सुनील साहू ने उपायुक्त से भेंटकर शिकायत की थी। प्रमुख ने उपायुक्त से जविप्र में मची लूट की जांच कर कार्रवाई की मांग की थी। वहीं भाजपा नेता ने स्पष्ट प्रति कार्डधारी को पांच किलो कम अनाज दिए जाने की लिखित शिकायत की हैं।

चाैपारण में एमओ व एजीएम का पद खाली :

चिंतनीय पहलु यह है कि प्रखंड में जविप्र की समस्या सुनने और समाधान के लिए सरकारी कर्मी की कमी है। बीते कई सालों से एमओ और एजीएम का पद खाली है। जो प्रभार के सहारे चल रहा है। बीते माह बीसीओ भूपनाथ महतो का स्थानांतरण हो गया। अब प्रतिनियुक्त बीसीओ कारू राम को बीसीओ के साथ एमओ और एजीएम का पद संभालना पड़ रहा है। इन दिनों वे वैवाहिक कार्यक्रम की वजह से अवकाश पर हैं। उन्होंने दूरभाष पर बताया कि पूरे मामले की जांच की जाएगी।

खबरें और भी हैं...