नक्सलियों की खोज में सर्च अभियान:मयूरनचवा जंगल से 20 किलो का कंटेनर बम बरामद, बड़ी गाड़ियों को उड़ाने की थी योजना

चरही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हजारीबाग जिले में भले ही नक्सली बैकफुट पर चले गए है, लेकिन हजारीबाग पुलिस के द्वारा नक्सलियों की खोज में सर्च अभियान अभी भी उसी रफ्तार में चला रही है। जिसके कारण पुलिस नक्सलियों के मंसूबे पर पानी फेरने में कामयाब हो रही है।

इसी क्रम में सोमवार को आंगो थाना क्षेत्र के खोटवार जंगल से चुरचू सीआरपीएफ 22 बटालियन और पुलिस के संयुक्त अभियान में 20 किलो का कंटेनर बम बरामद किया गया। रविवार की रात को ही जिला मुख्यालय पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि आंगो थाना क्षेत्र के जंगल मे बम प्लांट किया गया है।

सीआरपीएफ और पुलिस ने संयुक्त रूप से सोमवार सुबह लगभग 9 बजे से आंगो थाना क्षेत्र के जंगल मे सर्च ऑपरेशन चलाना शुरू किया। सीआरपीएफ के खोजी कुत्ते ने खोटवार और दारू जाने वाले रास्ते के जंगल से एक 20 किलो का कंटेनर बम बरामद किया। इसकी चपेट में आने से बस-ट्रक समेत बड़ी गाड़ियाें काे क्षति हाे सकती है।

खोजी कुत्ते के संकेत पर पुलिस ने कंटेनर को गड्‌ढे से निकाला, किया डिफ्यूज

जब खोजी कुत्ते ने उक्त बम होने के संकेत दिए तो उस बम के कुछ वायर जमीन से बाहर दिख रहे थे। साथ ही बम जमीन में बोरी में डालकर रखा गया था। बम निरोधी दस्ते को बुला कर उक्त बम को डिफ्यूज कराया गया।

पुलिस के जानकार सूत्र ने बताया कि यह कंटेनर बम इसलिए वहां प्लांट किया गया था कि कभी भी सीआरपीएफ या पुलिस की टीम का मूवमेंट उस रास्ते से हो तो उस बम को उड़ाया जा सके। आगे बताया कि आज से लगभग चार दिन पूर्व मयूरनचवा में माओवादी का हार्डकोर नक्सली मिथलेश के दस्ते को देखा गया था। मिथलेश के दस्ते में लगभग 10 लोग थे। वे लोग मयूरनचवा में रुक कर खाना खाए और फिर वहां से निकल गए।

पुलिस को भी इसका इनपुट मिला था। दूसरे दिन पुलिस भी उस जगह पर गई कुछ लोगो से इंट्रोगेट भी किया लेकिन ठोस जानकारी नहीं मिल पाई। लगातार सीआरपीएफ और पुलिस के द्वारा नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई चलाई जा रही है। जिसके चलते वे अपने हथियार, बम को इधर-उधर छिपा रहे है।

इस अभियान में हजारीबाग डीएसपी आरिफ इकराम, चुरचू सीआरपीएफ 22 बटालियन के असिस्टेंट कमांडेंट मनोज कुमार सिंह और उनकी पूरी बटालियन, आंगो पुलिस और चुरचू पुलिस के जवान शामिल थे।

खबरें और भी हैं...