• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Hazaribagh
  • For The First Time, The Students Of Class IX X Will Also Get A Free Book, The Sweater Of Students Up To Class VIII Also Changed Its Color.

स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग:पहली बार नौवीं-दसवीं के छात्रों को भी मिलेगी नि:शुल्क पुस्तक, आठवीं तक के छात्रों का स्वेटर का भी रंग बदला

हजारीबाग2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने प्रारंभिक और माध्यमिक विद्यालयों में दो नए बदलाव किया है। नवीं और दसवीं कक्षा के छात्रों को भी समग्र शिक्षा अभियान के तहत झारखंड काउंसिल एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग (जेसीईआरटी) की पुस्तकें नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाएंगी। इससे पहले नवीं दसवीं कक्षा की छात्राओं को नि:शुल्क पाठ्य पुस्तक उपलब्ध कराया जाता था। यह पहला साल होगा जिसमें अब छात्राओं के साथ छात्रों को भी किताबें दी जाएंगी। नवीं कक्षा को दी जाने वाली पुस्तकें प्रखंड स्तर पर बने बीआरसी में पहुंच गए हैं। वहां से विद्यालयों को पुस्तक का उठाव कर विद्यार्थियों में बांट देना है। दसवीं कक्षा की पुस्तक आने वाली है। उल्लेखनीय है कि सत्र की शुरुआत जुलाई से ही हो चुकी है।

विद्यालय में बनाए गए बुक बैंक से की गई नए सत्र की शुरुआत
सत्र की शुरुआत विद्यालय में बनाए गए बुक बैंक से दिए गए किताबों के साथ किया गया है। विद्यार्थियों को दी जाने वाली निशुल्क पुस्तकों को सत्र के समापन पर वापस ले लिया जाता है और उसे स्कूल के बुक बैंक में रख दिया जाता है। बुक बैंक में रखी गई यही पुरानी किताबें सत्र की शुरुआत में विद्यार्थियों को दी जाती हैं। पुस्तकों की आपूर्ति में देर सबेर की भरपाई इन्हीं पुस्तकों से होती है। नई पुस्तक का सेट आने के बाद विद्यार्थियों को उपलब्ध करा दिया जाता है।

आठवीं कक्षा के छात्राें का डीप ब्ल्यू रंग का हाेगा स्वेटर
विभाग ने पहली से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों को दिए जाने वाले पोशाक में भी बदलाव किया है। इस बार विद्यार्थियों को ब्ल्यू स्वेटर दिया जाएगा। छात्रों को डीप ब्ल्यू रंग का स्वेटर और छात्राओं को लाइट ब्ल्यू का स्वेटर मिलेगा। पिछले सत्र तक विद्यार्थियों को मरून रंग का स्वेटर झारखंड शिक्षा परियोजना की ओर से उपलब्ध कराया गया था।

स्वेटर के रंग में बदलाव की सूचना राज्य परियोजना निदेशक किरण कुमारी पासी ने सभी जिले के डीईओ और डीएसई के साथ झारखंड शिक्षा परियोजना को भी भेजा है। पहली और दूसरी कक्षा के लिए पोशाक की खरीद विद्यालय प्रबंधन समिति करता है। तीसरी से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों को पोशाक की राशि उनके खाते में डीबीटी की जाती है।

खबरें और भी हैं...