जिला खनन टास्क फोर्स की बैठक:एक विभाग की कार्रवाई से जिले में अवैध खनन पर नहीं लग सकता है अंकुश, विभागों में तालमेल होना जरूरी : डीसी

हजारीबाग2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उपायुक्त नैंसी सहाय की अध्यक्षता में ज़िला खनन टास्क फोर्स की समीक्षा बैठक हुई। सोमवार को समाहरणालय सभागार में हुई। बैठक में उपायुक्त ने अवैध खनन गतिविधियों की समीक्षा करते हुए खनन माफियाओं पर अंकुश लगाने के लिए संबंधित विभागों को सघन चेकिंग अभियान चलाने एवं पुलिस व सामान्य प्रशासन के संबंधित विभागों को खनन, वन, परिवहन, प्रदूषण, कारखाना विभागों के एक्ट के तहत समेकित कार्रवाई करने का सख्त निर्देश दिया।

उन्होंने कहा सिर्फ विभाग विभागीय कार्रवाई से अवैध खनन पर अंकुश लगाना संभव नहीं है। अवैध खनन, परिवहन में संलिप्त वाहनों, माफियाओं पर सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई करें। इसके लिए हर विभाग अपने स्तर से की गई कार्रवाई एवं सूचना का आदान प्रदान करने में समन्वय बना कर कार्य करें। सितंबर-अक्टूबर माह में प्रखंड- अंचल थाना क्षेत्र में की गई कार्रवाई की समीक्षा करते हुए अवैध बालू, चिप्स आदि लघु खनिज पदार्थ के रोकथाम के किए गए प्रयासों को नाकाफी बताते हुए थाना व अंचल अधिकारियों को संयुक्त कार्रवाई करने और निरंतरता बढ़ाने का निर्देश दिया।

साथ ही सभी अंचलों से कार्रवाई में जब्त वाहनों पर कार्रवाई में समरूपता लाने, राजस्व की चोरी रोकने, दबावों से मुक्त प्रावधानों के तहत कार्रवाई सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। उपायुक्त ने कहा कि अनुमंडल पदाधिकारी बरही व सदर अपने मॉनिटरिंग मेकेनिज्म को दुरुस्त करें तथा कार्रवाई स्थल पर भी मौजूद रहें। उपायुक्त ने सख्त लफ्जों में कहा कि इको सेंसेटिव जोन में कोई भी क्रशर संचालित न हो यह डीएमओ सुनिश्चित करें।

थाना प्रभारी और सीओ की सामूहिक जिम्मेवारी

उपायुक्त ने कहा थाना प्रभारी व अंचल अधिकारियों की सामूहिक जिम्मेवारी होगी कि लघु खनिजों के अवैध खनन, परिवहन पर अंकुश रहे। उपायुक्त ने अब तक अवैध खनन और वाहनों पर हुई कार्रवाई को असंतोषजनक बताया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अवैध उत्खनन एवं अवैध परिचालन पर गंभीरता से समीक्षा कर रही है। उन्होंने सभी विभागों को टीम भावना के साथ कार्य करते हुए कार्यों को अंजाम देने का निर्देश दिया।

खबरें और भी हैं...