भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट:कल्याण विभाग के पास फंड की कमी 12 हजार विद्यार्थियों को नहीं मिली 2021-22 में छात्रवृत्ति

हजारीबागएक महीने पहलेलेखक: उमेश कुमार
  • कॉपी लिंक
  • 9308 विद्यार्थियों के ऑनलाइन आवेदन विभिन्न कारणों से लंबित हैं

हजारीबाग जिला अंतर्गत 12251 छात्र छात्राओं को वर्ष 2021-22 की छात्रवृत्ति नहीं मिली है। इसके अलावा 9308 विद्यार्थियों के ऑनलाइन आवेदन विभिन्न कारणों से लंबित हैं। आवेदन पेंडिंग रहने से संबंधित सूचना संबंधित विद्यार्थियों को उनके ई मेल आईडी पर भी दी गई है।

आवेदन में रह गई त्रुटि या कमी को दूर करने पर इन 9308 विद्यार्थियों में से भी क‌ई छात्र छात्रवृत्ति के हकदार हो जाएंगे। इस प्रकार छात्रवृत्ति से वंचित छात्रों की संख्या 15 हजार से भी अधिक हो सकती है।

विदित हो कि झारखंड सरकार की ओर से कल्याण विभाग द्वारा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग के आर्थिक रूप से छात्र छात्राओं को हर वर्ष छात्रवृत्ति दी जाती है। हजारीबाग जिला अंतर्गत वर्ष 2021-22 में कल्याण विभाग से एससी, एसटी एवं ओबीसी को मिलने वाली छात्रवृत्ति के लिए पोस्ट मैट्रिक के 61417 छात्र छात्राओं ने ऑनलाइन आवेदन किया था, जिसमें से 58588 छात्र योग्य पाये गये।

प्रक्रिया के तहत योग्य पाये गये आवेदनों में 56701 आवेदनों को संबंधित कालेज, शिक्षण संस्थानों ने एप्रूव किया गया है। इसके बाद जिला स्तर की कमिटी के द्वारा 43602 आवेदनों को स्वीकृति दी गई‌। लेकिन स्वीकृत आवेदनों में 31351 छात्र छात्राओं के खाते में ही छात्रवृत्ति की राशि भेजी गई, क्योंकि सभी 43602 को छात्रवृत्ति का भुगतान करने लायक राशि ही उपलब्ध नहीं थी।

उपलब्ध आवंटन 14.61 करोड़ रुपए से 31351 विद्यार्थियों के खाते में राशि भेजी गई है। राशि के अभाव में 12251 छात्र छात्राओं की छात्रवृत्ति भुगतान फिलहाल रुका पड़ा है। जबकि 9308 छात्रों के आवेदन अभी लंबित हैं।

पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप में प्लस टू, स्नातक, स्नातकोत्तर, बीएड, इंजीनियरिंग, मेडिकल, एमसीए में अध्ययनरत छात्र छात्राओं को कल्याण विभाग, झारखंड सरकार की ओर से छात्रवृत्ति दी जाती है। खास बात यह है कि वर्ष 2021-22 में योग्य पाए गए सभी विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति मिल नहीं पाई है और अब वर्ष 2022-23 की छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने का समय आ गया है। इस बीच छात्रवृत्ति नहीं मिल पाने से क‌ई छात्र परेशान हैं और कार्यालय का चक्कर लगा रहे हैं।

छात्रवृत्ति नहीं मिलने से छात्र हैं परेशान, कार्यालयों का लगा रहे हैं चक्कर

एसटी छात्रों के लिए 1.30 करोड़ रुपए की है जरूरत
जानकारी के अनुसार हजारीबाग जिला अंतर्गत बाकी बचे छात्रों के छात्रवृत्ति भुगतान के लगभग चार करोड़ 30 लाख रुपए की जरूरत है। यह राशि मिलने पर बाकी बचे छात्रों को छात्रवृत्ति का भुगतान हो जाने की उम्मीद है।

सरकार से मांगी गई राशि में अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए एक करोड़ 30 लाख रुपए, अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए एक करोड़ तथा ओबीसी छात्रों के लिए दो करोड़ रुपए की मांग सरकार से की गई है।

फंड मिलते ही छात्रों के खाते में भेज दी जाएगी राशि : डीडब्लूओ

जिला कल्याण पदाधिकारी आलोक रंजन ने बताया कि अभी हाल में विभाग के सचिव ने सभी जिलों के जिला कल्याण पदाधिकारियों के साथ बैठक की है, जिसमें छात्रवृत्ति भुगतान को लेकर बात हुई।

सचिव ने सभी जिलों से एससी, एसटी ओबीसी के बाकी छात्रों को छात्रवृत्ति भुगतान के लिए रिक्विजिशन मांगा है,जिसके आलोक में हजारीबाग जिला से भेज दिया गया है। कल्याण सचिव ने शीघ्र राशि भेजने का भरोसा दिया है। राशि आते ही बाकी स्टूडेंट्स के खाते में राशि हस्तांतरित कर दिया जाएगा।
​​​​​​​

खबरें और भी हैं...