कृषि टैक्स बढ़ाने का विरोध:व्यवसायी संघ व सरकार के बीच वार्ता खाद्यान्न के अवाक पर लगी राेक हटी

हजारीबागएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

झारखंड में कृषि उपज पर कृषि शुल्क लागू करने के विरोध में हजारीबाग व्यापारी संघ ने पिछले 16 मई से खाद्यान्न का आवक बंद कर दिया था। वही लगातार पांच दिनों तक रस्साकशी के बाद शनिवार को व्यवसायिक संघ व सरकार के बीच रांची में एक समझौता वार्ता हुई।

वार्ता के बाद फिलहाल हजारीबाग व्यापारी संघ ने अपना आंदोलन स्थगित कर दिया है। शहर के व्यापारी गोला चौक के पास देर शाम जमा हुए और सरकार से सार्थक वार्ता होने पर खुशी जाहिर की। लोगों ने पटाखे भी छोड़े। वही एक दूसरे के गले मिलकर खुशी का इजहार किया।

इस संबंध में संघ के प्रवक्ता विजय जैन ने बताया कि आंदोलन को मंत्री सह कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम के आश्वासन पर स्थगित किया गया है। आश्वासन के अनुसार सरकार एक माह के अंदर इस विधेयक को वापस लेने की घोषणा नहीं करती हैं तो आंदोलन पुनः शुरू किया जाएगा।

उन्होंने सभी व्यवसायी, संगठन, चैम्बर एवं फेडरेशन के सदस्यों को एकजुटता व सरकार के साथ आपसी समझौता के लिए बधाई दी है। इधर अध्यक्ष ओम प्रकाश अग्रवाल ने कहा कि मंत्री ने आश्वस्त किया है कि कृषि टैक्स झारखंड में लागू नही होगा।

मुझे पूरा विश्वास है कि जो वार्ता मंत्री आलमगीर आलम और विधायिका दीप्ति पांडे के संग और अन्य कई कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के समक्ष हुई ,वह बहुत ही सार्थक है। वार्ता व्यापारियों व किसानों के हित में है।

व्यापारी संघ के उपाध्यक्ष विकास कुमार, सचिव अरुण कुमार साव, उप सचिव विनय गुप्ता, कोषाध्यक्ष पीयूष खंडेलवाल सहित संघ के कई लोगों ने वार्ता के बाद खुशी जाहिर की है।

खबरें और भी हैं...