परेशानी / चने की ट्राॅली में तेवड़ा का एक भी दाना होने पर पास नहीं कर रहे सर्वेयर

Surveyors are not passing even if Tevda has a single grain in Chana's trolley
X
Surveyors are not passing even if Tevda has a single grain in Chana's trolley

  • उपज रिजेक्ट कर उपार्जन केंद्रों से लौटा रहे किसानों को

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

आनंदपुर. सहकारी समितियों के उपार्जन केंद्रों पर किसान तेवड़ा के एक ही दाने से परेशान हैं क्योंकि यहां पर सर्वेयर द्वारा चने से भरी ट्रॉली में यदि 1-2 दाने तेवड़ा के मिल जाएं तो उस ट्रॉली को रिजेक्ट (फेल) कर दिया जाता है और किसान को घर जाने के लिए कह दिया जाता है। इससे किसान दिन भर तो परेशान होता ही है और फिर घर जाकर उस चने को मजदूर लगा कर तेवड़ा बिनवाता है। इस तरह से एक किसान को अपनी फसल उपार्जन केन्द्र पर बेचने के लिए इस तरह से एक किसान को अपनी चने की फसल सोसाइटी में बेचने के लिए 4 से 5 दिन कड़ी धूप में परेशान होना पड़ रहा है।  
 किसान तुलसीराम रघुवंशी परवरिया वालों ने बताया कि एक दाना निकला था मेरी चने की ट्रॉली में तेवड़ा का जिस पर मेरी 25 क्विंटल चने की ट्रॉली को सर्वेयर सु रेशा सोलंकी  द्वारा रिजेक्ट कर दिया गया है। इसके बाद मुझसे कहा जा रहा है कि इसे घर पर ले जाओ और तेवड़ा को साफ कर लाना। मुन्ना सिंह रघुवंशी ने गुस्सा जाहिर करते हुए बताया कि एक ट्रॉली चना की बिनाई कराने में 3000  रुपए खर्च हाे चुके हैं और एक ट्रॉली के साथ दो तीन व्यक्ति दिन भर लगे रहते हैं।  सोसायटी के सर्वेयर सुरेश सोलंकी ने बताया कि  किसानों को बता दिया गया है कि वे तेवड़ा के दाने साफ करवा कर लाएं। यदि एक भी दाना तेवड़ा का होगा तो ट्रॉली पास नहीं की जाएगी। ऐसा ऊपर से निर्देश है। सोसाइटी में चने का भाव 4875 रुपए प्रति क्विंटल है । 
समिति प्रबंधक रामेश्वर शर्मा ने बताया कि प्रतिदिन 40- 50 ट्रॉलियां आ रही हैं। शासन के निर्देशानुसार तेवड़ा का एक भी दाना नहीं होना चाहिए। ट्रालियों का सर्वे 10:30 बजे से शाम 6:00 बजे तक किया जा रहा है। चाहे 2 दिन ही क्यों ना लग जाएं पर सभी की ट्रॉलियों का सर्वे कराया जाएगा।  भारतीय किसान संघ के प्रांत संगठन मंत्री मनीष शर्मा ने कहा कि भारतीय किसान संघ  सरकार से तेवड़ा मिली फसलें खरीदने के संंबंध में चर्चा कर रहा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना