पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:491 किसानों ने किया था रजिस्ट्रेशन, 279 से ही खरीद

जैंतगढ़25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • लक्ष्य का आधा भी खरीद नहीं हुआ धान, तीन महीने बाद किसानों की झोली खाली

जगन्नाथपुर का एक मात्र धान अधिपात्य क्रय केंद्र जैंतगढ़ लैंपस का हमेशा विवादों के साथ चोली दामन का साथ रहा है। इस केंद्र पर लक्ष्य के आधा से भी कम धान की खरीदारी हो पाई है। कभी जगह नहीं रहने तो कभी अन्य विवादों की वजह से किसान क्रय केंद्र में धान नहीं बेच पाए। मजबूरन आधे से अधिक किसानों को खुले बाजार में कम कीमत पर अपनी गाढ़ी कमाई को बेच कर घाटा सहना पड़ा।

धान खरीद का लक्ष्य 26 हजार क्विंटल से अधिक था। मगर तीन महीने में सिर्फ 10621.95 क्विंटल ही धान की खरीद हो पाई। जबकि धान बेचने के लिए 491 किसानों ने राजिस्ट्रेशन करवाया था। गोदाम में जगह नहीं रहने तथा अन्य विवादों की वजह से केवल 278 किसानों ने ही धान बेच पाए। धान की खरीदारी 30 अप्रैल से बंद है। इधर तीन महीने बाद भी सभी किसानों को पैसे का भुगतान नहीं हो पाया है। 278 किसानों में सिर्फ 105 किसानों के खाते में ही पैसा पहुंचा है। कुछ किसानों को आधा पैसा ही दिया गया है। मानसून पूर्व हुई बारिश से किसान खुश हैं। किसान धान की बुआई की तैयारी में जुट गए हैं। लॉकडाउन की वजह से किसानों के हाथ खाली हैं। धान बुआई का समय सिर पर है। हाथ खाली रहने से किसान परेशान हैं।

खबरें और भी हैं...