पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नरसंडा ग्राम सभा:प्रशासन को ग्राम सभा का संयुक्त हस्ताक्षर युक्त मांग पत्र देने का लिया गया निर्णय

चाईबासा2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सदर प्रखंड के नरसंडा पंचायत भवन में मंगलवार को ग्राम मुंडा ध्रुवा सुंडी की अध्यक्षता में ग्राम सभा की बैठक आयोजित की गई जिसमें चाईबासा नप क्षेत्र में फिर से शहर से सटे नरसंडा सहित 11 गांवों को शामिल करने के प्रस्ताव का कड़ा विरोध किया गया। बैठक में ग्राम सभा के सभी सदस्यों ने एक स्वर में कहा कि किसी भी सूरत में नरसंडा को चाईबासा नगर पालिका क्षेत्र में शामिल होने नहीं देंगे। ग्रामीणों ने पांचवीं अनुसूची का हवाला देते हुए कहा कि पांचवी अनुसूचित क्षेत्र का अपना कानून होता है।

आदिवासियों की जल, जंगल, जमीन के साथ साथ अपनी धार्मिक, सामाजिक व पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था को सुरक्षित रखने के लिए यह कानून बना है। ग्रामीण क्षेत्रों में दोहरा कानून नहीं चलेगा। ग्रामीण क्षेत्रों में मानकी मुंडा पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था को खतम करने का साजिश किया जा रहा है जो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। बैठक में इस मुद्दे को कुछ स्वार्थी तत्वों द्वारा राजनीतिक रंग देने का किये जा रहे प्रयास का विरोध किया गया। बैठक में ग्राम सभा द्वारा लिये गये निर्णय से सरकार व प्रशासन को लिखित रूप से अवगत कराने का निर्णय लिया गया।

वहीं ग्राम मुंडा ध्रुवा सुंडी ने भी अपनी ओर से प्रशासन को जल्द मंतव्य देने की बात कही है। बैठक में मुख्य रूप से मुंडा ध्रुवा सुन्डी, सचिव सेलाय सुन्डी, मुखिया जयंती सुन्डी, पुष्पलतिका सुन्डी, धीरेन्द्र सुन्डी, आनंद सुन्डी, सुशील सुन्डी, तुराम सुन्डी, रामसिंह सुन्डी, प्रकाश सुन्डी,अनिल सुन्डी, संजय मालुवा, बिरसा सुन्डी, प्रधान सुन्डी, मनोज सुन्डी, सतीश सुन्डी, डोबरो सुन्डी, राजू सुन्डी, विजय आनन्द सुन्डी,अमृत पुरती,सोमा सोय, सुशील सुन्डी, राजेश सुंडी सहित अन्य मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...