पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर पड़ताल:रेलवे गेट बंद कर चार घंटे गायब रहा गेटमैन डांगुवापाेसी एआरएम ने जांच में किया सस्पेंड

चाईबासा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

चक्रधरपुर रेल मंडल के डांगुवापाेसी रेलवे स्टेशन के पास स्थित रेल फाटक काे अक्सर कई-कई घंटाें तक बंद कर गायब रहनेवाले केबिन मैन से स्थानीय लाेगाें काे छुटकारा मिल गया है। केबिन मैन विपुल कुमार की मनमानी की शिकायत की पड़ताल भास्कर टीम ने साेमवार काे की थी। इस दाैरान रेलवे स्टेशन से महज पांच साै फीट दूरी पर माैजूद राजखरसंवा-डांगुवापाेसी रेलखंड के रेल फाटक किमी 367/ 17-19 बंद मिला था। जबकि कई गाड़ियां बंद फाटक के सामने खड़ी थी। विपुल केबिन में नहीं था।

केबिन में ताला पड़ा हुआ था। इसकी शिकायत भास्कर की टीम ने माैके पर से ही चक्रधरपुर रेल मंडल के डीसीएम मुख्यालय से की गई। उन्हाेंने तुरंत जांच के लिये डांगुवापाेसी एआरएम बीएन सिंह काे माैके पर भेजा। एआरएम के आने से ठीक पहले रेलवे गेट इंचार्ज राजकुमार पूर्ति भी पहुंचे, लेकिन उन्हाेंने चाबी नहीं हाेने की मजबूरी बतायी। हालांकि राजकुमार ने स्टेशन मास्टर से तुरंत शिकायत की।

दाेपहर तीन बजे डंगुवाेपासी एआरएम बीएन सिंह ने जांच की। उनके पहुंचने के समय ही गेटमैन विपुल भी पहुंचा। उसने पहुंचते ही शिकायत करनेवालाें काे गाली गलौज शुरू कर दी। वहीं, एआरएम ने तुरंत गेटमैन काे सस्पेंड कर दिया।

ग्रामीण बाेले: मनमानी ऐसी थी कि राेज छह घंटे गायब रहता गेटमैन

डीपीएस के इस रेल फाटक से हाेकर लगभग छह पंचायत के लाेग आवाजाही करते हैं। रेलकर्मी भी इसी से हाेकर पार हाेते हैं। लेकिन गेटमैन अक्सर रेल फाटक बंद कर गायब रहा करता था। स्थानीय लाेगाें के अनुसार शिकायत करने पर गेटमैन धमकी देता था। मजबूरन लाेग दूसरे रास्ते से हाेकर बड़ी गाड़ियाें में निकल जाते थे।

हेडक्चार्टर काे रिंग आता रहा, लेकिन पड़ा था ताला

डांगुवापाेसी रेलवे स्टेशन के पास स्थित रेल फाटक गेट बंद रहने पर लाेग मजबूरन बाइक साइकिल आदि गेट नीचे से पार हाे रहे थे। लेकिन बड़ी गाड़ियों की मजबूरी रही कि कतार मे खड़े रहे। एक बजे से दाेपहर बाद चार बजे तक गेट बंद रहा। वहीं रेल मंडल हेडक्वार्टर में शिकायत के बाद वरीय अधिकारियाें ने केबिन में फाेन कर हकीकत जानना चाहा। रिंग हाेता रहा,लेेकिन काेई उठानेवाला ही नहीं था। इधर में केबिन में ताला पड़ा हुआ था।

खबरें और भी हैं...