पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पैनल तैयार:अक्टूबर तक विभिन्न विषयों में होगी शिक्षकों की बहाली, नए सत्र में हर कॉलेज को मिलेंगे टीचर

चाईबासा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • घंटी आधारित शिक्षकों का बनेगा पैनल; रिटायर्ड भी होंगे शामिल, जरूरत के आधार पर कॉलेजों को भेजे जाएंगे गुरुजी

कोल्हान विश्वविद्यालय(केयू) में घंटी आधारित गेस्ट शिक्षकों के लिए एक पैनल तैयार किया जाएगा। इसी पैनल से ही कॉलेजों को जरूरत के आधार पर शिक्षक दिए जाएंगे। कई विषय में लगभग 50 से 60 शिक्षकों की बहाली अक्टूबर तक होनी है। इसके लिए कई अभ्यर्थियों ने आवेदन भी जमा कर दिया हैै। सहायक प्रोफेसर के लिए जितनी योग्यता होती है, उतनी ही योग्यता घंटी आधारित गेस्ट शिक्षकों की भी होगी।

विवि प्रशासन ने सबसे अधिक शिक्षकों की कमी वाले कॉलेजों की समस्याओं को दूर करने का प्रयास किया है। कई कॉलेजों में विषयवार शिक्षक नहीं हैं। जेएलएन कॉलेज में हिंदी विषय में एक मात्र शिक्षक हैं। जबकि टाटा कॉलेज चाईबासा, महिला कॉलेज चाईबासा, को-ऑपरेटिव कॉलेज जमशेदपुर, वर्कर्स कॉलेज जमशेदपुर समेत अन्य कई कॉलेजों में विषयवार शिक्षक नहीं है। जरूरत के हिसाब से कॉलेजों में भी गेस्ट शिक्षक भेजे जाएंगे। केयू में तैयार की जा रही घंटी आधारित शिक्षकों के पैनल में रिटायर शिक्षक भी होंगे।

मालूम हो कि घंटी आधारित शिक्षकों को प्रति क्लास 600 रुपए मानदेय तय किया गया है। जबकि अधिकतम 36 हजार तक प्रति माह का मानदेय दिया जाता है। कोल्हान विवि के प्रवक्ता डॉ. पीके पाणी ने कहा कि पैनल में सभी कॉलेज के सृजन पद हैं, उसी के आधार पर शिक्षकों को भेजा जाएगा।

यूजी सेमेस्टर वन में नामांकन की अंतिम तिथि आज, 35 हजार छात्र अबतक कर चुके आवेदन

केयू के यूजी सेमेस्टर वन में नामांकन करने की अंतिम तिथि चांसलर पोर्टल में रविवार शाम पांच बजे तक निर्धारित की गई है। 25 अगस्त से नामांकन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू की गई है। अबतक 17 दिन हो चुका है। दो दिन के बाद चांसलर पोर्टल में प्रथम मेरिट लिस्ट का प्रकाशन किया जाएगा। इसके बाद से कॉलेजों में नामांकन शुरू होगा। विवि के पास मौजूद आंकड़ों के मुताबिक अबतक 35 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने यूजी सेमेस्टर वन में नामांकन के लिए आवेदन किया है। हालांकि इसमें शनिवार व रविवार का आंकड़ा दर्ज नहीं है। विवि को अनुमानत है कि कि लगभग 45 हजार विद्यार्थी आवेदन कर सकते हैं। इधर, विवि ने सभी कॉलेजों को निर्देश दिया कि नामांकन संबंधित सारे कार्यों को पूरा कर लें। वैसे शिक्षकेत्तर कर्मचारी जो नामांकन काउंटर में रहते हैं उन्हें सारे मामलों से अवगत करा दें। कॉलेजों में विद्यार्थियों को किसी तरह की परेशानी नहीं होनी चाहिए। निर्धारित समय पर सभी विद्यार्थियों का नामांकन करा लें।

कोल्हान विवि में यूजी सेमेस्टर वन के विद्यार्थियों की कक्षाएं 1 से

नामांकन प्रक्रिया को निर्धारित समय पर पूरा करने को लेकर विवि की ओर से हर संभव प्रयास किया जा रहा है। लगातार कॉलेज प्रभारियों के साथ कुलपति प्रा गंगाधर पंडा बैठक कर रहे हैं। विवि ने यूजीसी की गाइडलाइन का पालन करते हुए 1 अक्टूबर से सत्र को आरंभ करने का निर्णय लिया है। साथ ही सभी कॉलेजों में 1 अक्टूबर से ही कक्षा आरंभ करने संबंधित अधिकारिक अधिसूचना भी जारी कर दी है।

जहां कुलपति बैठते हैं, उस प्रशासनिक भवन में शौचालय का पानी पहुंच रहा

केयू के प्रशासनिक भवन का शौचालय का हाल बेहाल हो गया है। पिछले एक माह से यही स्थिति बनी हुई है। पाइप फट जाने के कारण पानी का बहाव बाहर की ओर हो रहा है। जिससे वहां कार्यरत कर्मचारियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

सीनेट हॉल के पास पीजी विभाग का कार्यालय बनाया गया है। उसके पास ही शौचालय का निर्माण किया गया है। यह हाल तब है कि जब इसी प्रशासनिक भवन में कुलपति से लेकर विवि प्रबंधन के सभी प्रमुख अधिकारी बैठते हैं। यह समस्या ग्राउंड फ्लोर में हैं, जबकि कुलपति का कार्यालय पहले तल्ले में है। मालूम हो कि विवि के प्रशासनिक भवन में ही पीजी विभाग का कार्यालय संचालित होता है। महिला व पुरुष दोनों के लिये शौचालय यहीं बनाया है।

लेकिन दोनों का हाल बेहाल है। पीजी विभाग में कार्यरत कर्मचारियों ने शौचालय को ठीक कराने को लेकर कई बार कुलसचिव डॉ जयंत शेखर को पत्र भी लिखा है, लेकिन किसी तरह की कोई पहल नहीं की गई। पाइप फटने से पानी का बहाव सीनेट हॉल तक पहुंच रहा है। गंदे पानी का बहाव होने से लोग सीनेट हॉल भी नहीं जा पा रहे हैं। कर्मचारियों ने कुलसचिव से कहा कि यदि पाइप ठीक नहीं किया गया तो पीजी विभाग के कार्यालय को बंद करना होगा।

बता दें कोल्हान विवि के प्रशासनिक भवन में निरंतर शौचालय की सफाई नहीं होने की वजह से इस तरह की समस्या उत्पन्न हो रही है। शौचालय में लगे पाइप पुराना होने के कारण फट गये हैं। इधर, विवि ने शौचालय सफाई करने वाले आउटसोर्सिंग कंपनी को लापरवाही का आरोप लगाते हुए उसके एजेंसी को कैंसिल कर दिया है।

खबरें और भी हैं...