कार्बन उत्सर्जन:हाइड्रोजन फ्यूल सेल ट्रेन के लिए निविदाएं आमंत्रित

चाईबासा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय रेल ने स्वयं को हरित परिवहन प्रणाली के रूप में बदलने के क्रम में उत्तर रेलवे के 89 किमी. लंबे सोनीपत-जिंद सेक्शन पर देश की पहली हाइड्रोजन फ्यूल ट्रेन चलाने का निर्णय लिया है। भारतीय रेल वैकल्पिक ईंधन संगठन (आईआरओएएफ), भारतीय रेल के हरित ईंधन प्रभाग ने उत्तर रेलवे के सोनीपत-जिंद सेक्शन पर हाइड्रोजन फ्यूल सेल आधारित ट्रेन चलाने के लिए निविदाएं आमंत्रित किया है।

इस प्रयोजन के लिए निविदा-पूर्व दो बैठकें क्रमशः 17 अगस्त एवं 9 सितंबर को निर्धारित की गई है। प्रस्ताव देने की तिथि 21 सितंबर तथा टेंडर खुलने की तिथि 5 अक्टूबर 2021 निर्धारित किया गया है। पेरिस वातावरण समझौता 2015 के अंतर्गत ग्रीन हाउस गैसेज को कम करने के लक्ष्य की प्राप्ति की चुनौती को स्वीकार करते हुए तथा रेलवे द्वारा जीरो कार्बन उत्सर्जन मिशन के अंतर्गत 2030 तक लक्ष्य प्राप्ति हेतु रेलवे ने सोनीपत-जिंद सेक्शन पर 2 डीएमयू रैक को फ्यूल सेल पावर्ड हाइब्रिड ट्रैक्शन सिस्टम से ट्रेन चलाने का निश्चय किया है। जिसमें हाइड्रोजन फ्यूल आधारित ट्रेन का संचालन किया जाएगा तथा इसके लिए आवश्यक बजटीय सहायता उपलब्ध कराई गई है।

खबरें और भी हैं...