पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ग्रामसभा का विरोध:सामाजिक बहिष्कार का अधिकार भूमिज समाज को है, ग्रामसभा को नहीं- संदेश

जैंतगढ़19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुखिया के विवाह विवाद ने पकड़ा तूल, अब ग्रामसभा का विरोध

विवाह के दिन से ही विवाद के घेरे में आया मुखिया राई भूमिज का विवाह विवाद गहराता जा रहा है। ग्रामसभा कर नवविवाहित दंपती का सामाजिक बहिष्कार करने का भूमिज समाज ने विरोध किया है। भूमिज समाज के वरिष्ठ नेता सह जगन्नाथपुर अनुमंडल अध्यक्ष संदेश सरदार ने कहा कि मानकी-मुंडा प्रथा कोल्हान की रीढ़ है। इसे विधि-व्यवस्था के लिए सुदृढ़ किया गया है। सामाजिक मामलों में हस्तक्षेप करने का अधिकार उसे नहीं है। हमारा भूमिज समाज अपने आप में काफी मजबूत है।

हमारे रीति-रिवाज, नियम कानून के साथ सुदृढ़ सामाजिक व्यवस्था है। समाज के किसी भी व्यक्ति को सामाजिक रूप से बहिष्कृत करने का अधिकार सिर्फ भूमिज समाज को है, ग्रामसभा को नहीं। समाज के सक्रिय सदस्य सह पूर्व मुखिया अर्जुन सरदार ने कहा कि मुखिया राई भूमिज ने अगर सामाजिक भूल की है तो इसे हमारा समाज देखेगा। अंतरजातीय विवाह में बुराई क्या है। हमारा समाज गुरुवार को बैठक कर निर्णय लेगा। ग्रामसभा ने एक तरफा कार्रवाई की है। भूमिज समाज के जगन्नाथपुर अनुमंडल सचिव करताल सरदार ने कहा कि मुखिया की शादी को अनावश्यक तूल दिया जा रहा है। ग्रामसभा को सामाजिक मामलों में हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं है।

खबरें और भी हैं...